मुख्य मेनू खोलें

अंकारा तुर्की की राजधानी और इस्तांबुल के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। शहर पहले अंगोरा के नाम से जाना जाता था।

अंकारा
राजधानी
मध्य अंकारा में स्थित अताकुले टॉवर और एत्रियम मॉल
मध्य अंकारा में स्थित अताकुले टॉवर और एत्रियम मॉल
देशतुर्की
क्षेत्रफल
 • राजधानी2516 किमी2 (971 वर्गमील)
अधिकतम ऊँचाई938 मी (3,077 फीट)
जनसंख्या (2011)
 • राजधानी43,38,620
 • महानगर घनत्व1551 किमी2 (4,020 वर्गमील)
 • महानगर49,65,542
समय मण्डलEET (यूटीसी+2)
 • ग्रीष्मकालीन (दि॰ब॰स॰)EEST (यूटीसी+3)
पिन कोड०६ xxx
दूरभाष कोड३१२
वेबसाइटhttp://www.ulaanbaatar.mn/

आनातोलिया में स्थित अंकारा एक प्रमुख व्यापारिक और औद्योगिक केन्द्र भी है। यह शहर तुर्की सरकार का केन्द्र है एवं यहाँ सभी विदेशी दूतावास भी स्थित हैं। तुर्की के राज्यमार्गों एवं रेलमार्ग के जाल के मध्य में स्थित होने के कारण यह व्यापार का केन्द्र है। अंगोरा शहर लम्बे बालों वाली अंगोरा बकरी और उसके कीमती ऊन, अंगोरा खरगोश, नाशपाती और शहद के लिये प्रसिद्ध था। अंकारा एक प्राचीन शहर है, जिसमें कई हत्ती, फ्रीजियन, हेलेनिस्टिक, रोमन, बीज़ान्टिन, उस्मानी पुरातात्विक स्थल मौजूद हैं। तुर्किश सांख्यिकीय संस्थान के मुताबिक, २०११ में शहर की आबादी ४३,३८,६२० थी।

अनुक्रम

इतिहाससंपादित करें

189 क़बल मसीह में ये शहर रूमी सल़्तनत में शामिल हुआ और रूमी इलाके की हैसीयत से ये सल़्तनत के मशरक़ी हिस्से का दरवाज़ा बन गया। दारुलहकूमत क़िस्तनतनीह होने के बावजूद यक्का बाज़नतीनी सल़्तनत में भी इस की एहमीयत मुसल्लिम्मा थी। ये शहर 11 वीं सदी तक मुस्लिम अफ़वाज का गहवारा बनता रहा और बिलआख़िर 1071ए में सल्जूक़ सुल्तान अल्प अरसलान ने जंग मिलाज़कुरद में बाज़नतीनीओ-ं को शिकस्त दे कर ऊनातूलये की फ़तह का दरवाज़ा खोल दिया। पहली सलीबी जंग के दौरान सलीबीओ-ं ने इस पर क़ब्ज़ा करलिया। उस्मानी सल़्तनत के दूसरे फ़रमांरवा औरख़ान अव्वल ने 1356ए में शहर पर क़ब्ज़ा करलिया जबकि 1403ए में तैमूर लिंग ने अनक़रा के मुक़ाम पर बा यज़ीद यल्दरम को शिकस्त दे कर उस्मानी सल़्तनत को ज़बरदस्त नुक़्सान पानचाया लेकिन 1403ए में उस्मानीओ-ं ने दुबारा शहर को हासिल करलिया।

जंग अज़ीम अव्वल के बाद 1919ए में बैरूनी क़ब्ज़े के ख़िलाफ़ मुस्तफ़ा कमाल अतातुर्क ने अनक़रा को अपना मरकज़ बनाया और बाद अज़ां फ़तह के बाद दारुलहकूमत क़िस्तनतनीह से अनक़रा मुंतकिल करदीअ।

अर्थव्यवस्थासंपादित करें

ऐतिहासिक रूप से, अंगोरा बकरी से महीन चिकना ऊन मोहेयर और अंगोरा खरगोश से अंगोरा ऊन का उत्पादन शहर की अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। सदियों से, इन वस्त्रों को अंकारा से यूरोप और दुनिया के अन्य भागों के लिए निर्यात किया गया। मध्य आनातोलिया तुर्की में अँगूर और वाइन उत्पादन के मुख्य स्थानों में से एक है और अंकारा, विशेष रूप से, अपने मस्कट अंगूरों के लिये प्रसिद्ध है।

अंकारा राज्य के स्वामित्व वाली और निजी तुर्की एयरोस्पेस और रक्षा कंपनियों का केंद्र है। यहां रक्षा कंपनियों, जैसे तुर्की एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज और अन्य कई, के औद्योगिक संयंत्र और मुख्यालय स्थित हैं। प्रत्येक दो वर्षों में लगने वाला अंतर्राष्ट्रीय रक्षा उद्योग मेला, वैश्विक हथियार उद्योग की एक सबसे बड़ी अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी है। यह मेला अंकारा या इस्तांबुल में लगाया जाता है।

अंकारा में रोजगार का एक बड़ा प्रतिशत राज्य संस्थाओं जैसे मंत्रालयों, तुर्की सरकार और अन्य प्रशासनिक निकायों द्वारा प्रदान किया जाता है।

दर्शनीय स्थलसंपादित करें

  • अंकारा नृवंशविज्ञान संग्रहालय
  • आनातोलियाई सभ्यताओं का संग्रहालय
  • स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय
  • अंकारा विमानन संग्रहालय
  • राज्य कला और मूर्तिकला संग्रहालय

शिक्षासंपादित करें

तुर्की में, अंकारा विशेष रूप से बहुत सारे विश्वविद्यालयों के घर के रूप में जाना जाता है। यहाँ के कई विश्वविद्यालय देश में बेहद प्रतिष्ठित हैं।

  • अंकारा विश्वविद्यालय
  • ग़ाज़ी विश्वविद्यालय
  • मध्य पूर्व तकनीकी विश्वविद्यालय
  • बिलकेन्त विश्वविद्यालय
  • तुर्किश सैन्य अकादमी
  • तुर्किश राष्ट्रीय पुलिस अकादमी

आतंकवादी हमलेसंपादित करें

तुर्की की राजधानी अंकारा में 17 फरवरी 2016 आतंकवादी हमला हुआ।[1]

तुर्की की राजधानी अंकारा के किज़िलय स्क्वायर में 13 मार्च 2016 को आतंकी हमला हुआ। जिसमें 30 से ज्यादा लोग मारे गए।[2]

तुर्की के इन्स्ताम्बुल में आतंकी हमला हुआ था जिसमें ३९ लोग मरे गये थे जिसमे से २ भारतीय थे। यह हमला १ जनुअरी २०१७ को हुआ था।[3]

तुर्की की राजधानी अंकारा के सेंट्रल रेलवे स्टेशन के बहर १० अक्टूबर २०१५ को आतंकी हमला हुआ|हमले में १०९ लोग मारे गय और ५०० लोग घायल हुए।[4]

मुख्य आकर्षणसंपादित करें

प्राचीन/पुरातात्विक साइटेंसंपादित करें

अंकारा गढ़संपादित करें

अंकारा गढ़ की नींव एक प्रमुख लावा (39 ° 56 ′ 28 ″ n 32 ° 51 ′ 50 ″ e/39.941 ° n 32.864 ° E/३९.९४१; ३२.८६४) पर गलाटियन्स द्वारा रखी गई थी, और बाकी रोमन द्वारा पूरा किया गया था।

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें