अंकिता रैना

भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी

अंकिता रैना (जन्म: 11 जनवरी 1993) भारतीय टेनिस खिलाड़ी और महिला एकल में वर्तमान भारतीय नंबर 1 हैं।[1] अंकिता ने आईटीएफ महिला सर्किट में 8 एकल और 14 युगल खिताब जीते हैं। अप्रैल 2018 में, उन्होंने एकल रैंकिंग के शीर्ष 200 में प्रवेश किया। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाली भारत की केवल पाँचवीं खिलाड़ी बन गई। 28 अगस्त 2017 को, वह युगल रैंकिंग में दुनिया की नंबर 159 पर पहुँच गई। अंकिता ने 2016 के दक्षिण एशियाई खेलों में महिला एकल और मिश्रित युगल मुकाबलों में भी स्वर्ण पदक जीते हैं।

अंकिता रैना
અંકિતા રૈના
2018 Roland Garros Qualifying Tournament - 55 (cropped).jpg
2018 में अंकिता
देश  भारत
जन्म दिन 11 जनवरी 1993 (1993-01-11) (आयु 28)
जन्म स्थान अहमदाबाद, गुजरात

व्यक्तिगत जीवन और बैकग्राउंडसंपादित करें

रैना का जन्म गुजरात के अहमदाबाद में 11 जनवरी 1993 को हुआ था. उनके पिता रविंद्रकृष्णन कश्मीरी मूल के हैं। उन्होंने चार साल की उम्र में अपने घर के क़रीब एक अकादमी में खेलना शुरू कर दिया था।[2] उनके बड़े भाई अंकुर रैना पहले से टेनिस खेलते थे और उनकी माँ टेबल टेनिस खेला करती थीं।[3] राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं को जीतने के बाद, रैना ने 8 वर्ष की उम्र में ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन की तरफ से आयोजित एक टैलेंट हंट टूर्नामेंट में महाराष्ट्र की शीर्ष वरीयता प्राप्त एक 14 वर्षीय खिलाड़ी को हराया। बेहतर प्रशिक्षण के लिए साल 2007 में, रैना के मां-बाप उन्हें पुणे ले गए जहां उन्होंने कोच हेमंत बेंद्रे से ट्रेनिंग लेनी शुरू की।

करियरसंपादित करें

आशाजनक जूनियर करियर के बाद, अंकिता ने 2009 में मुम्बई के एक छोटे से आईटीएफ टूर्नामेंट में अपना पहला पेशेवर खेल खेला। 2010 में, उन्होंने सीमित सफलता के साथ स्थानीय आईटीएफ प्रतियोगिताओं में भाग लेना जारी रखा। अंकिता 2011 के सीज़न में डबल्स में तीन आईटीएफ सर्किट फाइनल में पहुँची, जिसमें से एक में उन्होंने देश की ही ऐश्वर्या अग्रवाल के साथ जीत दर्ज की। 2012 में, उन्होंने नई दिल्ली में अपना पहला पेशेवर एकल खिताब जीता और युगल में तीन और खिताब जीते।

अप्रैल 2018 में, वह निरुपमा संजीव, सानिया मिर्ज़ा, शिखा ओबेरॉय और सुनीता राव के बाद महिला एकल रैंकिंग के शीर्ष 200 में जगह बनाने वाली पाँचवीं भारतीय बनी। उस समय वह विश्व की रैकिंग में नंबर 181 पर पहुँच गई थी।[4]

अगस्त 2018 में, अंकिता ने इंडोनेशिया के जकार्ता में एशियाई खेलों में एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता।[4] अंकिता रैना और सानिया मिर्ज़ा भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली एकमात्र खिलाड़ी हैं जिन्होंने एशियाई खेलों में एकल पदक जीता है। फरवरी 2019 में अंकिता ने अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ रैकिंग हासिल की। सिंगल्स रैकिंग में वह 165वीं पर पहुँची जबकि डबल्स रकिंग में वह 164वें स्थान पर रही।[5] फरवरी 2019 में ही अंकिता रैना फेड कप में अपना पहला मुकाबला थाईलैंड से जीती।[6] लेकिन इसके बाद वह कजाकिस्तान के खिलाड़ी से अगले राउंड में हार गई।[7]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग पर पहुंची भारतीय टेनिस स्टार अंकिता रैना". नवोदय टाइम्स. 4 फरवरी 2019. अभिगमन तिथि 1 मार्च 2019.
  2. D'Cunha, Zenia. "Who is Ankita Raina? Meet India's top-ranked women's tennis player who impressed at Mumbai Open". Scroll.in (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-02-18.
  3. ""She is waiting for her opportunity. And it will come – sooner or later" - Lalita Raina ji, sharing a mother's perspective, on the tennis journey of Ankita Raina". Indian Tennis Daily (अंग्रेज़ी में). 2020-03-24. अभिगमन तिथि 2021-02-18.
  4. "एशियाड में भारत को कई अनजान चेहरों ने दिलाए गोल्ड, टेबल टेनिस और सेपकटकरा में पहली बार जीते पदक". दैनिक भास्कर. 2 सितम्बर 2018. मूल से 28 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 मार्च 2019.
  5. "अंकिता रैना की बड़ी उपलब्धि, करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग हासिल की". अमर उजाला. 4 फरवरी 2019. मूल से 1 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 मार्च 2019.
  6. "फेड कप: अंकिता दोनों मुकाबले जीतीं, भारत ने थाईलैंड को 2-1 से हराया". हिन्दुस्तान लाइव. 8 फरवरी 2019. मूल से 1 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 मार्च 2019.
  7. "फेड कप: कजाकिस्तान ने भारत को 3-0 से दी शिकस्त". इंडिया टीवी. 9 फरवरी 2019. मूल से 1 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 मार्च 2019.