अंगामी (Angami), भारत के नागालैंड की सोलह बोलियों में से एक बोली तथा राज्य की प्रमुख भाषा है। यह तिब्बती-बर्मी भाषा परिवार की अंगामी-पोचुरी शाखा की अंगामी उपशाखा की एक भाषा है। राज्य के निवासियों के बीच यह संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो चुकी हैं। देश की 1652 भाषाओं एवं बोलियों में से एक है। इसके बोलने वालों की संख्या एक लाख से ज़रा अधिक है। यह चीनी-तिब्बती परिवार की असमी-बर्मी-शाखा की एक टोनिम (Toneme) प्रधान भाषा है, जिनमें तान के चढ़ाव-उतार से किसी-किसी शब्द में आठ अर्थों तक का बोध होता है। इसे रोमन लिपि में लिखा जाने लगा है। नागरी लिपि में भी भाषा और साहित्य को लिखित रूप देने का प्रयास हो रहा है।[1]

अंगामी
बोलने का  स्थान भारत
तिथि / काल सन् २००१ जनगणना
क्षेत्र नागालैण्ड
समुदाय अंगामी नागा
मातृभाषी वक्ता १,३२,०००
भाषा परिवार
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 njm

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Nordhoff, Sebastian; Hammarström, Harald; Forkel, Robert; Haspelmath, Martin, eds. (2013). "Angami Naga". Glottolog. Leipzig: Max Planck Institute for Evolutionary Anthropology.