मुख्य मेनू खोलें
अन्तःसमुद्री केबल का मानचित्र (२००७)
आधुनिक अन्तःसमुद्री दूरसंचार केबल का प्रतिछेद
1 – पॉलीथीनP
2 – माइलर का फीता
3 – इस्पात के तार
4 – अल्युमिनियम का जल अवरोध
5 – पॉलीकार्बोनेट
6 – ताँबा या अल्युमिनियम की नली
7 – पेट्रोलियम जेली
8 – प्रकाशीय तंतु

अन्तःसमुद्री केबल (submarine cable) वह केबल है जो दो भू-स्थित स्टेशनों के बीच के समुद्र के पेंदें में बिछाया जाता है। अन्तःसमुद्री केबल दो तरह के हो सकते हैं- दूरसंचार केबल या शक्ति केबल (पॉवर केबल)। १८५० के दशक में सबसे पहले अन्तःसमुद्री केबल बिछाया गया था जो टेलीग्राफी के लिये था।आधुनिक केबल डिजिटल डेटा ले जाने के लिए ऑप्टिकल फाइबर तकनीक का उपयोग करते हैं, जिसमें टेलीफोन, इंटरनेट और निजी डेटा ट्रैफ़िक शामिल हैं। आधुनिक केबल आमतौर पर व्यास में लगभग 1 इंच (25 मिमी) होते हैं और गहरे समुद्र के वर्गों के लिए लगभग 2.5 टन प्रति मील (1.4 टन प्रति किमी) का वजन रखते हैं, जिसमें अधिकांश भाग शामिल होते हैं, हालांकि उथले के लिए बड़े और भारी केबल का उपयोग किया जाता है- तट के पास पानी की धारा।पनडुब्बी केबल अंटार्कटिका को छोड़कर दुनिया के सभी महाद्वीपों से जुड़ी थी, जब जावा 1871 में डार्विन, उत्तरी क्षेत्र, ऑस्ट्रेलिया से जुड़ा हुआ था, 1872 में ऑस्ट्रेलियाई ओवरलैंड टेलीग्राफ लाइन के पूरा होने की प्रत्याशा में एडिलेड, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया और शेष ऑस्ट्रेलिया को जोड़ता है।

एक अन्तःसमुद्री शक्ति केबल का प्रतिछेद