अंदाज़ अपना अपना

1994 की राजकुमार संतोषी की फ़िल्म

अंदाज़ अपना अपना 1994 की हिन्दी भाषा की फिल्म है। यह राजकुमार संतोषी द्वारा निर्देशित कॉमेडी फ़िल्म है। इसमें प्रमुख भूमिकाओं में आमिर खान, सलमान खान, रवीना टंडन, करिश्मा कपूर और परेश रावल हैं। महमूद, गोविन्दा और जूही चावला ने अतिथि उपस्थिति दर्ज की है। फिल्म 4 नवंबर 1994 को रिलीज हुई थी। फ़िल्म अपने समय में फ्लॉप हुई थी।[1] लेकिन अब इसे काफी पसंद किया जाता है और ऐतिहासिक छाप वाली फ़िल्म माना जाता है।

अंदाज़ अपना अपना
AndazAA.jpg
अंदाज़ अपना अपना का पोस्टर
निर्देशक राजकुमार संतोषी
निर्माता विनय सिन्हा
लेखक राजकुमार संतोषी
दिलीप शुक्ला
अभिनेता आमिर ख़ान,
सलमान ख़ान,
रवीना टंडन,
करिश्मा कपूर,
परेश रावल,
शक्ति कपूर
संगीतकार तुषार भाटिया
छायाकार ईश्वर बिदरी
संपादक वी. एन. मायेकर
वितरक विनय पिक्चर्स
प्रदर्शन तिथि(याँ) 4 नवंबर, 1994
समय सीमा 160 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

भोपाल के दो लड़के हैं- अमर (आमिर खान) और प्रेम (सलमान खान)। दोनों एक दूसरे को नहीं जानते; मगर दोनों में एक बात समान है। दोनों बेकार, निखट्टू और गैर-जिम्मेदार हैं। दोनों के बाप उन दोनों से परेशान हैं। इसी बीच अखबार में एक खबर छपती है कि लन्दन में रहने वाले एन.आर.आई. करोड़पति राम गोपाल बजाज की इकलौती बेटी रवीना बजाज अपने लिए योग्य दुल्हे की तलाश में भारत आई है और ऊटी में रुकी है। अमर और प्रेम दोनों रवीना से शादी करने की इच्छा से ऊटी जाते हैं। इसी बीच दोनों में दोस्ती और दुश्मनी की परिस्थितियों में कुछ चुटीले दृश्य बनते हैं। इसी दौरान अमर-प्रेम दोनों अपने अपने जीवन-साथियों को तो पाते ही हैं, राम गोपाल बजाज कि संपत्ति के पीछे पड़े कुछ अपराधियों के चक्कर में भी फंस जाते हैं। इन अपराधियों में सबसे प्रमुख है, तेजा उर्फ श्याम गोपाल बजाज (परेश रावल) और क्राईम मास्टर गोगो (शक्ति कपूर) जो प्रसिद्द अपराधी मोगाम्बो का भतीजा है।

वे रवीना के घर में डेरा डालने का फैसला करते हैं। अमर ने एक ऐसे व्यक्ति होने का नाटक किया जिसने रवीना (रवीना टंडन) द्वारा मारे जाने से अपनी याददाश्त खो दी है, जबकि प्रेम डॉक्टर होने का नाटक करता है। लड़कों को नहीं पता कि रवीना की सचिव करिश्मा (करिश्मा कपूर) असली रवीना है और रवीना का वास्तविक नाम करिश्मा है। रवीना ने अपनी पहचान बदल दी क्योंकि वह ऐसा लड़का ढूंढना चाहती थी जो उसे प्यार करेगा, न कि उसके पैसे को। राम गोपाल बजाज का जुड़वां भाई श्याम गोपाल बजाज, उर्फ ​​तेजा एक अपराधी है जिसने क्राईम मास्टर गोगो से बहुत पैसा लिया है। तेजा को अपने भाई का अपहरण करके और खुद को राम के रूप में प्रस्तुत करके धन इकट्ठा करने की उम्मीद है। उसने घर में अपने आदमियों, रॉबर्ट (विजू खोटे) और भल्ला (शहज़ाद ख़ान) को लगाया है।

राम भारत में आता है और तेजा हीरे में परिवर्तित राम के पैसे चोरी करने की योजना बनाता है। यहाँ, राम अमर और प्रेम के विवाह के प्रस्ताव को अस्वीकार कर देता है। दोनों नकली अपहरण की योजना बनाते हैं जहां वे वीरतापूर्वक राम का "बचाव" करेंगे। तेजा ने भी राम का अपहरण करने की योजना बनाई है। राम को अपहरण करने में तेजा सफल होता है। लड़के राम को बचाने के लिए जाते हैं, लेकिन तेजा उन्हें विश्वास दिलाता है कि वह राम है और अंततः राम के घर में प्रवेश करता है। प्रारंभ में, किसी को भी किसी चीज़ पर संदेह नहीं होता है, लेकिन लड़कियों को जल्द ही शक हो जाता है। लड़के भी लड़कियों की असली पहचान जान जाते हैं। वास्तविक रवीना से प्रेम प्यार में पड़ जाता है, जबकि अमर असली करिश्मा से प्यार करने लगता है।

लड़कियाँ लड़कों को अपने संदेह के बारे में बताती हैं। लड़के तेजा का पीछा करते हैं और जल्द ही सच पता लगाते हैं। यहाँ, राम तेजा को चकमा देता है और जेल से बच निकलता है। हालांकि, लड़कों ने उसे तेजा समझ लिया, जिसके परिणामस्वरूप राम को फिर से कैद किया गया, अब अमर और प्रेम के साथ। हालांकि, अमर और प्रेम रॉबर्ट और भल्ला को विश्वास दिलाने में सफल रहते हैं कि राम वास्तव में तेजा है। रॉबर्ट और भल्ला के साथ लड़के, तेजा को रोकते हैं। हालांकि, रवीना और करिश्मा के साथ राम का अपहरण कर लिया जाता है। अंत गोगो के अड्डे में होता है, जहां लड़के राम के साथ स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश करते हैं। वहाँ प्रत्येक खलनायक का वास्तविक उद्देश्य प्रकट होता है। हालांकि, लड़कों की चतुरता के कारण पुलिस ने गोगो के अड्डे पर हमला किया, इस प्रकार सभी अपराधियों को घेर लिया गया। आखिरकार राम ने करिश्मा और रवीना की प्रेम और अमर से शादी करने का फैसला किया।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत मजरुह सुल्तानपुरी द्वारा लिखित; सारा संगीत तुषार भाटिया द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."ये रात और ये दूरी"एस॰ पी॰ बालासुब्रमण्यम, आशा भोंसले5:12
2."एल्लो जी सनम हम आ गये"विकी मेहता, बेहरोज चटर्जी5:55
3."दिल करता है तेरे पास"मंगल सिंह4:59
4."दो मस्ताने चले जिंदगी बनाने"एस॰ पी॰ बालासुब्रमण्यम, देबाशीष दासगुप्ता6:03
5."जाना तूने जाना नहीं"बेहरोज चटर्जी, देबाशीष दासगुप्ता, अभिजीत4:34
6."शोला शोला तू भड़के"एस॰ पी॰ बालासुब्रमण्यम, सपना मुखर्जी, देबाशीष दासगुप्ता, बेहरोज चटर्जी6:16

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "...तो इसलिए फ्लॉप हो गई थी आमिर-सलमान की फिल्म अंदाज अपना-अपना". हिन्दुस्तान लाइव. 24 अप्रैल 2018. अभिगमन तिथि 15 मई 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें