अखिल भारतीय मुस्लिम लीग (ऑल इंडिया मुस्लिम लीग) ब्रिटिश भारत में एक राजनीतिक पार्टी थी और उपमहाद्वीप में मुस्लिम राज्य की स्थापना में सबसे कारफरमा शक्ति थी। भारतीय विभाजन के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम लीग इंडिया में एक नये नाम इण्डियन यूनियन मुस्लिम लीग के रूप में स्थापित रही। खासकर की दूसरी पार्टियों के साथ शामिल हो कर सरकार बनाने में। पाकिस्तान के गठन के बाद मुस्लिम लीग अक्सर मौकों पर सरकार में शामिल रही है। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ गठबन्धन चल रहा है।

ऑल इंडिया मुस्लिम लीग का ध्वज

आधारसंपादित करें

१९०६ में ढाका स्थान पर ऑल इंडिया मुस्लिम लीग की स्थापना की।

ऑल इंडिया मुस्लिम लीग का गठन १९०६ में ढाका स्थान पर अमल में आया। महमडिं शैक्षणिक सम्मेलन के वार्षिक अधिवेशन के समाप्त होने पर उपमहाद्वीप के विभिन्न राज्यों से आए मुस्लिम ईतिदीन ने ढाका नवाब सलीम अल्लाह खान की निमंत्रण पर एक विशेष सम्मेलन की। बैठक में फैसला किया गया कि मुसलमानों की राजनीतिक मार्गदर्शन के लिए एक राजनीतिक पार्टी का गठन किया जाए. याद रहे कि सर सैय्यद ने मुसलमानों को राजनीति से दूर रहने का सुझाव दिया था। लेकिन बीसवीं सदी के आरंभ से कुछ ऐसी घटनाओं उत्पन्न होने शुरू हुए कि मुसलमान एक राजनीतिक मंच बनाने की जरूरत महसूस करने लगे। ढाका बैठक की अध्यक्षता नवाब प्रतिष्ठा आलमलك ने की। नवाब मोहसिन आलमल कि; मोलानामहमद अली जौहर, मौलाना जफर अली खान, हकीम अजमल खां और नवाब सलीम अल्लाह खान समेत कई महत्त्वपूर्ण मुस्लिम आबरीन बैठक में मौजूद थे। मुस्लिम लीग का पहला राष्ट्रपति सर आग़ा खान को चुना गया। केंद्रीय कार्यालय अलीगढ़ में स्थापित हुआ। सभी राज्यों में शाखाएं बनाई गईं। ब्रिटेन में लंदन शाखा का अध्यक्ष सैयद अमीर अली को बनाया गया।[1]

पाकिस्तान के लिए संघर्षसंपादित करें

jaJ2 mp gmg pngm

मुस्लिम लीग पाकिस्तान मेंसंपादित करें

  1. पीएमएल एन
  2. पीएमएल क्यू
  3. मुस्लिम लीग मैं

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "ऑल इंडिया मुस्लिम लीग का गठन". मूल से 24 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 अगस्त 2012.