मुख्य मेनू खोलें

अजीत प्रताप सिंह

भारतीय राजनीतिज्ञ

राजा अजीत प्रताप सिंह (जन्म: 14 जनवरी, 1917; कुल्हीपुर, प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश- मृत्यु: 6 जनवरी 2000) उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिला के शाही परिवार से राजनेता थे।[1]

अजीत प्रताप सिंह
अजीत प्रताप सिंह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य रहे

लोकसभा सदस्य
कार्यकाल
1962-67, 1980-1984
चुनाव-क्षेत्र प्रतापगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

जन्म 14 जनवरी 1917
कुल्हीपुर, प्रतापगढ़
मृत्यु जनवरी 6, 2000(2000-01-06) (उम्र 82)
लखनऊ, उत्तर प्रदेश
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
धर्म हिन्दू

राजनीतिक जीवनसंपादित करें

अजीत प्रताप सिंह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य थे और 1946 से 1952 तक उत्तर प्रदेश विधान सभा के सदस्य रहे और 1969 से 1977 तक उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री के पद पर बने रहे। इसके अलावा दो बार लोक सभा के सदस्य चुने गये एक बार 1962 से 1967 तक व दूसरी बार 1980 से 1984 तक।[2]

इनकी शिक्षा सेंट जोसफ़ कॉलेज इलाहाबाद व सीनियर कैम्ब्रीज से हुई। वो 1985 में आबकारी मंत्री व 1988 में आबकारी व वन मंत्री रहे इसके अलावा 1986 से 1988 तक उत्तर प्रदेश के राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष रहे। वे 1998 से 2000 तक ब्रिटिश इंडिया एसोसिएशन (अवध) के अध्यक्ष रहे इसी काल में वे काल्विन ताल्लुकदार कॉलेज लखनऊ (1998-2000) के सचिव सह प्रबंधक भी रहे।[3] ये प्रताप बहादुर डिग्री कॉलेज, प्रतापगढ़ सिटी के संस्थापक सदस्यों में भी शामिल थे व प्रताप बहादुर इंटर कॉलेज के प्रबंधक रहे। इन्होंने तीन अस्पतालों को प्रतापगढ़ जिला बोर्ड को दान किया। 1991 में, उनके बेटे अभय प्रताप सिंह, जनता दल से उसी निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए थे।[4]

निधनसंपादित करें

82 साल की उम्र में इनका निधन जनवरी 6, 2000 को लखनऊ में हुआ।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Ajit Pratap Singh IBN Live.
  2. Genealogy of Pratapgarh
  3. "In the Hindi heartland, royals gird for electoral battle". द हिन्दू. Mar 18, 2004.
  4. "7th Lok sabha: Members Bioprofile". Lok Sabha website.