मुख्य मेनू खोलें

अटल बिहारी वाजपेयी क्षेत्रीय उद्यान की स्थापना वर्ष 2003 में इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा की गई। पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से स्थापित यह उद्यान 42 एकड़ के ताल एवं 38 एकड़ के भूमि भाग से मिलकर बना है[1]। इस प्रकार यह उद्यान कुल 80 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। पूर्व में स्थित ताल के पास की खाली भूमि को उद्यान का रूप दिया जाकर इस उद्यान का विकास किया गया है। इसमे ताल के अलावा आसपास शांत तथा हरियाली से पूर्ण स्थल होने के कारण यह उद्यान जैवविविधता संरक्षण की दृष्टि से अत्यंत ही अनुकूल क्षेत्र बन पड़ा है। 

अटल बिहारी वाजपेयी रीजनल पार्क
प्रकार सार्वजनिक उद्यान
स्थान इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत
निर्देशांक मालवा_ 22°40′36″N 75°51′13″E / 22.6767418°N 75.8536276°E / 22.6767418; 75.8536276निर्देशांक: मालवा_ 22°40′36″N 75°51′13″E / 22.6767418°N 75.8536276°E / 22.6767418; 75.8536276
क्षेत्र 80 acres
निर्मित इंदौर विकास प्राधिकरण
संचालक इंदौर विकास प्राधिकरण
स्थिति चालू
वेबसाइट Official Website
उद्यान का प्रवेश द्वार

परिवार

उद्यान में भ्रमण को आए लोग

अनुक्रम

उद्यान के विभिन्न भागसंपादित करें

उद्यान को कई भागों में विभाजित कर विभिन्न पादपों का रोपण किया गया है। इस प्रकार यह उद्यान विभिन्न रुचि वाले आगुंतको हेतु पर्याप्त आकर्षण बनाये रखने में सक्षम है।

जैविविधता पार्कसंपादित करें

उद्यान के इस क्षेत्र में विभिन्न पेड़ तथा झड़ियों का सघन रोपण किया गया है ताकि अधिकतम प्राणियों को प्राकृतिक रहवास उपलब्ध हो सके। यहाँ रोपित प्रजातियों में स्पेथोडिया, केलियन्ड्रा, टबूबुईया आदि प्रमुख है।

मुग़ल गार्डनसंपादित करें

 
उद्यान में पक्षियों की उपस्थिती

इस भाग में बने फाउंटेन के दोनों ओर विद्या (थुजा ओरिन्टेलिस) के पौधे लगाये गए हैं। इसके अतिरिक्त कचनार (बाउहिनिया परप्यूरिया), झारूल (लेगार्स्ट्रोमिया स्पेसिओसा) आदि पेड़ भी लगाये गये हैं।  

भूलभुलैयासंपादित करें

यह उद्यान का एक रोचक स्थल है जिसमे फायकस इलास्टिका की झाड़ियों से चौकोर के आकार में रास्तों को बनाते हुये बनाया गया है। इस प्रकार अंदर जाने ओर बाहर आने हेतु रास्ते भूलने का भ्रम बना रहता है। विशेषकर बच्चों के लिए यह आकर्षण का केंद्र है।

आर्टिस्ट विलेजसंपादित करें

इस क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की कलाकृतियों को लगाया गया है।

 
राजस्थानी गाँव के रूप में सज्जा

राजस्थानी विलेजसंपादित करें

उद्यान के इस हिस्से में राजस्थानी कला को बखूबी दर्शाया गया है। यहाँ दीवार चित्रण के परंपरागत शैली के चित्रों सहित अलंकृत होटल जैसी बैठक व्यवस्था भी देखने को मिलती है।

म्यूजिकल फाउंटेनसंपादित करें

इस फाउंटेन के सामने दर्शक दीर्धा बनाई गई है अर्ध चंद्राकार आकार की यह बैठक व्यवस्था दर्शकों को सुलभ म्यूजिकल फाउंटेन का आनंद उठाने में मददगार है।

बोटिंग स्टेशनसंपादित करें

बोटिंग स्टेशन पर विभिन्न आकार तथा क्षमता की बोट उपलब्ध है। इनसे जल क्रीड़ा का सपरिवार आनंद लिया जा सकता है।

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें