मुख्य मेनू खोलें

इसका अर्थ धर्म का एकदम विपरीत होता है। श्रीमद्भागवत पुराण के अनुसार अधर्म की ५ शाखाएँ है[1]-

  1. विधर्म
  2. परधर्म
  3. उपमा
  4. आभास
  5. छल

अनुक्रम

विधर्मसंपादित करें

जिस कार्य को धरम बुद्धि से करने पर भी अपने धर्म में बाधा पडे़ उसे विधर्म कहते है।

परधर्मसंपादित करें

किसी अन्य के द्वारा किसी अन्य पुरुष के लिये उपदेश किया हुआ धर्म "परधर्म" कहलाता है।

उपमासंपादित करें

पाखण्ड यादम्भ उपमा कहलाते है।

आभाससंपादित करें

मनुष्य अपने आश्रम के विपरीत स्वेच्छा से जिसे धर्म मान लेता है वह आभास कहलाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. श्रीमद्भागवत महापुराण, स्कन्ध-७, अध्याय-१५, श्लोक-१२