अनामिका पण्डित सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की एक काव्य रचना है।[1] अनामिका या प्रथम अनामिका नामक कलकत्ते से प्रकाशित सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' के इस कविता संग्रह में ९ कविताएँ थीं। (१) ‘अध्यात्म फल’ (२) ‘माया’, (३) ‘जलद’, (४) ‘अधिवास’, (५) ‘तुम और मैं’, (६) ‘जुही की कली’, (७) ‘पंचवटी प्रसंग’, (८) ‘सच्चा प्यार’ और (९) ‘लज्जित’।

अनामिका (कविता संग्रह)  
[[चित्र:|150px]]
मुखपृष्ठ
लेखक सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
देश भारत
भाषा हिंदी
विषय साहित्य
प्रकाशक नवजादिक लाल, २३ शंकर घोष लेन, कलकत्ता
प्रकाशन तिथि १९२३
पृष्ठ ४०

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "अनामिका". अभिगमन तिथि जनवरी 2015. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)