अनिर्देशित बम (unguided bomb) उन बमों को कहते हैं जिनको किसी निर्देशित मार्ग पर ले जानी वाली प्रणाली नहीं लगी होती बल्कि वे वायुयान से छोड़े जाने के बाद गुरुत्वीय बल के प्रभाव में गति करते हुए नीचे गिरते हैं। इसलिए इन्हें 'गुरुत्व बम' (gravity bomb), 'मुक्त-पतन बम' (free-fall bomb) या 'बहरे बम' (dumb bomb) भी कहते हैं। द्वितीय विश्वयुद्ध के दूसरे चरण के पहले तक सभी बम अनिर्देशित ही होते थे। यहाँ तक कि १९८० के अन्तिम चरण तक सेवारत/छोड़े गए बम अधिकांशतः अनिर्देशित गुरुत्व बम ही थे।

प्रथम विश्वयुद्ध के समय के विभिन्न आकार के अनिर्देशित बम
अमेरिका द्वारा १९५० के दशक में निर्मित B83 परमाणु बम , जो अनिर्देशित ही थे।