अम्बेडकर नगर ज़िला

उत्तर प्रदेश, भारत में जिला
(अम्बेडकर नगर से अनुप्रेषित)

अम्बेडकर नगर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय अकबरपुर है। इस जिले की स्थापना 29 सितंबर 1995 को हुई थी। इसका निर्माण तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने किया था और इसका नाम भीमराव आम्बेडकर की याद में रखा गया था, जिन्होंने वंचित वर्गों, महिलाओं और समाज के अन्य कमजोर वर्गों की उन्नति के लिए काम किया था। अंबेडकर नगर जिले का कुल क्षेत्रफल 2350 वर्ग किलोमीटर है।

अम्बेडकर नगर ज़िला
उत्तर प्रदेश का ज़िला
अम्बेडकर नगर ज़िला is located in पृथ्वी
अम्बेडकर नगर ज़िला
अम्बेडकर नगर ज़िला
उत्तर प्रदेश में अम्बेडकर नगर जिले की स्थिति
देशभारत
राज्यउत्तर प्रदेश
मंडलअयोध्या मंडल
स्थापना29 सितम्बर 1995; 28 वर्ष पूर्व (1995-09-29)
मुख्यालयअकबरपुर, अम्बेडकर नगर
तहसील
शासन
 • लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र1. अम्बेडकर नगर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र- अकबरपुर, जलालपुर, कटेहारी, टाण्डा
2. सन्त कबीर नगर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र- राजेसुल्तानपुर, आलापुर
 • विधानसभा निर्वाचन क्ष्रेत्र1. कटेहारी
2. अकबरपुर
3. टाण्डा
4. जलालपुर
5. आलापुर
क्षेत्र2350 किमी2 (910 वर्गमील)
जनसंख्या (2011)
 • कुल2,397,888
 • घनत्व1,000 किमी2 (2,600 वर्गमील)
जनसांख्यिकी
 • साक्षरता74.37%
 • लिंगानुपात976
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+05:30)
राष्ट्रीय राजमार्गराष्ट्रीय राजमार्ग 233 (National Highway 233), Netional Highway 128 राष्ट्रीय राजमार्ग 128, राष्ट्रीय राजमार्ग 232, एसएच 30, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे,Gorakhpur Link Expressway
वेबसाइटhttp://ambedkarnagar.nic.in/

और इस जिले के कुछ छोटे प्रमुख शहर है जैसे • महरुआ(गोला) mahrua •पहतीपुर(खानपुर) •मालीपुरजाफरगंजरसूलपुर/मुबारकपुरबसखारीअसरफपुर (किछौछा दरगाह) •आरिया/कटरिया •हाजीपुर (अकबरपुर)हंसवार शादतजंग (गंजा) आदि छोटे शहर मौजूद है[1][2]

स्थापना व नामकरण

संपादित करें

यह ज़िला उत्तर प्रदेश की तत्कालीन मुख्यमन्त्री मायावती के द्वारा २९ सितम्बर १९९५ को बनाया गया था। इसका नाम भारतीय संविधान निर्मात्री सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉ. भीमराव आम्बेडकर के नाम पर रखा गया है।

जिले का कुल क्षेत्रफल २३५० वर्ग किमी है। लगभग ९० % जनसंख्या गाँव में रहती है। OMMS आंकड़ों के अनुसार अम्बेडकर नगर जिले में ३९५५ गाँव हैं। इन छोटे गांवों के अलग-थलग होने की वज़ह से ज़िला दस प्रशासकीय ब्लॉकों में विभाजित है: अकबरपुर, बेवाना, बसखारी, भीटी, भियाँव, जहाँगीर गंज , जलालपुर, कटेहरी, रामनगर और टाण्डा

अकबरपुर शहर, तमसा नदी के किनारे बसा है जो शहर को दो भागों अकबरपुर और शहजादपुर में विभक्त करती है, जो शहर के मुख्य वाणिज्यिक केंद्र हैं। सरयू नदी मुख्य नदी है और जिले के उत्तरी सीमा पर स्थित है। टाण्डा, जहाँगीर गंज , रामनगर और बसखारी के ब्लॉक इस नदी के किनारे स्थित हैं और सिंचाई के लिए इसका पानी का उपयोग करते हैं। बसखारी ब्लॉक में सिंचाई देवहट और हँसवर झील से भी होती है। झील दरवन, टाण्डा और कटेहरी ब्लॉक में पानी उपलब्ध कराता है। अकबरपुर, भीटी,भियाँव और जलालपुर ब्लॉक छोटी नदियों और मौसमी नदियों पर निर्भर करते हैं। अकबरपुर, भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर जिले का मुख्यालय है।

प्रशासनिक विभाग

संपादित करें

अम्बेडकर नगर जिले का मण्डल अयोध्या है, जिसकी 5 तहसीलें अकबरपुर, टाण्डा, जलालपुर, आलापुर और भीटी हैं। इस जिले में 5 विधानसभा क्षेत्र हैं:

  1. कटेहरी
  2. भीटी
  3. अकबरपुर
  4. जलालपुर
  5. आलापुर (अनुसूचित)
  6. टाण्डा

अर्थव्यवस्था

संपादित करें

अम्बेडकर नगर टाण्डा टेरीकाट के लिए विख्यात है। खेती और बिजली के करघे का इस्तेमाल लोगों की प्रमुख आर्थिक गतिविधियों में शुमार है। जिले में एनटीपीसी से संबंधित एक थर्मल पावर स्टेशन तथा जेपी ग्रुप से संबंधित एक सीमेंट निर्माण संयंत्र भी है। जिले में एक चीनी कारखाने अकबरपुर चीनी मिल, जो ज़िला मुख्यालय से सोलह किलोमीटर की दूरी पर, मिझौड़ा में स्थित है। अकबरपुर में कई चावल मिलें मौजूद हैं। 2006 में पंचायती राज देश के 250 सबसे पिछड़े जिलों (बाहर के एक कुल 640) के नाम अम्बेडकर नगर ​​एक मंत्रालय [2] यह उत्तर प्रदेश में 34 जिलों में वर्तमान में पिछड़ा क्षेत्र से धन प्राप्त अनुदान निधि कार्यक्रम में से एक हैं। (बीआरजीएफ) [2].

अम्बेडकर नगर में सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त और निजी शिक्षण संस्थान है, जो जिले में स्कूली स्तर से लेकर उच्च शिक्षा तक शिक्षण कार्य कराते हैं।

प्रमुख उच्च शिक्षण संस्थान

संपादित करें
  1. श्रवण क्षेत्र में एक वार्षिक मेले में माघ पूर्णिमा (फरवरी पूर्ण चंद्रमा) पर आयोजित किया जाता है। किंवदंती है कि श्रवण कुमार, राजा दशरथ के द्वारा श्रवण क्षेत्र में मारा गया। महादेव मंदिर बीड़ी ग्राम, रामपुर सकरवारी है जो मालीपुर रेलवे स्टेशन से दोस्तपुर रोड पर 7 किमी दूर स्थित है। आस्था भक्ति की जगह झालखण्ड(पीपल के पेड़ से स्वयंभूत शिवलिङ) मालीपुर रेलवेस्टेशन के दक्षिण, राम जानकी मंदिर धवरूआ तिराहा(प्राचीन पोखरा) जलालपुर सुलतानपुर रोडपर मालीपुर से 5 किमी दक्षिण, तथा लोरपुर अपने किले के लिए जाना जाता हैं। हनुमान मंदिर, कटहरी से अनिरुद्ध नगर, बेनीपुर गाँव, अकबरपुर से 18 किलोमीटर पश्चिम और 10 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है। गोविन्द साहब बाबा आजमगढ-अम्बेड़करनगर राष्ट्रीय मार्ग टोल टैक्स से 500मीटर पहले दक्षिण 2 किलोमीटर पर गोविन्द साहब बाबा का स्थान स्थित है

2. अकबरपुर मुख्यालय से 6 किलोमीटर दूर फैजाबाद - गोसाईगंज सड़क मार्ग पर स्थित प्रसिद्ध "शिव बाबा धाम" है , जो वह अपने आप में एक अलौकिक पर्यटक स्थल है ! वहां पर हर सप्ताह के सोमवार और शुक्रवार को भव्य मेला लगता है, जो एक अपने आप में भव्यता का स्वरूप देता है ,,


नगर पालिका/नगर पंचायत

संपादित करें

विकास खण्ड

संपादित करें

उल्लेखनीय व्यक्तित्व

संपादित करें

इन्हें भी देखें

संपादित करें
  1. "Uttar Pradesh in Statistics," Kripa Shankar, APH Publishing, 1987, ISBN 9788170240716
  2. "Political Process in Uttar Pradesh: Identity, Economic Reforms, and Governance Archived 2017-04-23 at the वेबैक मशीन," Sudha Pai (editor), Centre for Political Studies, Jawaharlal Nehru University, Pearson Education India, 2007, ISBN 9788131707975