मीमांसा दर्शन में अर्थापत्ति एक प्रमाण माना गया है। यदि कोई व्यक्ति जीवित है किंतु घर में नहीं है तो अर्थापत्ति के द्वारा ही यह ज्ञात होता है कि वह बाहर है।[1] प्रभाकर के अनुसार अर्थापत्ति से तभी ज्ञान संभव है जब घर में अनुपस्थित व्यक्ति के संबंध में संदेह हो। कुमारिल के मत में उस व्यक्ति के जीवन के बारे में निश्चय तथा घर में अनुपस्थिति दोनों का मिलाकर ही उस व्यक्ति के बाहर होने का ज्ञान होता है। न्यायशास्त्र के अनुसार अर्थापत्ति अनुमान के अंतर्गत है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Arthapatti". ब्रिटैनिका विश्वकोश. मूल से 26 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २५ अक्टूबर २०१४.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें