कला, साहित्य, फोटोग्राफी, फिल्म, मूर्तिकला, चित्रकला आदि का वह रूप जो कामोत्तेजक हों, अश्लील साहित्य या इरोटिका (Erotica) कहलाते हैं। वर्तमान काल में यह मानव-शरीर-रचना एवं कामुकता का उच्च कला के माध्यम से निरूपण है। इस मामले में यह 'पोर्नोग्राफी' से भिन्न है।

जीन अगीलू (Jean Agélou) विरचित फर्नांडी (1910–1917)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें