अहोम भाषा (Ahom language) क्रा-दाई भाषा-परिवार की ताई उपशाखा की एक भाषा है जो भारत के असम राज्य में बसने वाले अहोम लोगों द्वारा 13वीं से 18वीं शताब्दी ईसवी तक बोली जाती थी। यह बर्मा की शान भाषा से मिलती-जुलती है और थाई भाषा से भी दूर से सम्बन्धित है। सन् 2000 में केवल 200 पुजारी ही इस भाषा के ज्ञाता थे। आरम्भ में यह एक सुरभेदी भाषा थी लेकिन समय के साथ इसके सुर खो गये, क्योंकि इसकी लिखाईयों में सुर नहीं लिखा जाता था।[1][2][3][4]

अहोम भाषा
बोलने का  स्थान असमअरुणाचल प्रदेश
क्षेत्र  भारत
समुदाय अहोम लोग
मातृभाषी वक्ता
भाषा परिवार
क्रा-दाई
लिपि अहोम लिपि
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 aho

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Buragohain, Dipima (2011). "Issues of Language Contact and Shift in Tai Ahom".
  2. French, M. A. (1994). Tai Languages. In The Encyclopedia of Language and Linguistics (Vol. 4, pp. 4520-4521). New York, NY: Pergamon Press Press.
  3. Hongladarom, K. (2005). Thai and Tai Languages. In Encyclopedia of linguistics (Vol. 2, pp. 1098-1101). New York, NY: Fitzroy Dearborn.
  4. The Tai Ahom Language in Assam : Language Shift and The Process of Socio-Cultural Assimilation — Dr. Anita konwar, Asst. Professor, Donation, Cheraidoi