हरियाणा के जनपद फरीदाबाद एवं गुड़गॉव, उ0प्र0 के मथुरा एवं आगरा जनपदों तथा राजस्‍थान के भरतपुर जिले में सुरक्षात्‍मक सिंचाई पदान करने हेतु यमुना नदी पर ओखला (दिल्‍ली) के पास एक वियर का निर्माण कर इसके दाहिने तट से आगरा नहर प्रणाली का निर्माण वर्ष 1878 में किया गया था। आगरा नहर का पुनरोद्वार वर्ष 1955-57 के बीच किया गया तथा इका शीर्ष निस्‍सार 3237 क्‍यूसेक कर दिसा गया, लेकिन आगरा नहर की शुरू की लगभग 19 कि0मी0 टुकड़ी में कार्य न पूरा हो पाने के कारण यह नहर 2100 क्‍यूसेक से अधिक पानी लेने में सक्षम नहीं हो सकी।

यह उत्तर प्रदेश की प्रमुख नहर हैं।

भौगोलिक स्थितिसंपादित करें

स्रोत स्थलसंपादित करें

लम्बाई (मीटर में)संपादित करें

नदी परियोजनासंपादित करें

सिंचाई उपलब्धतासंपादित करें