मुख्य मेनू खोलें
आचार्य पुष्पदंत जी की प्रतिमा

आचार्य पुष्पदंत (1 शताब्दी CE) एक दिगम्बर साधु थे। उन्होंने और आचार्य भूतबली ने जैन धर्म के सबसे पवित्र ग्रन्थ, षट्खण्डागम की रचना की थी।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. शास्त्री 2007, पृ॰ १८६.

सन्दर्भ सूचीसंपादित करें

  • शास्त्री, प. कैलाशचन्द्र (2007), जैन धर्म, आचार्य शंतिसागर 'छाणी' स्मृति ग्रन्थमाला, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-902683-8-4