आनुभविक अनुसन्धान

अनुभवजन्य साक्ष्य का उपयोग करके किया गया अनुसंधान अनुभवजन्य अनुसंधान (Empirical research) कहलाता है। यह प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष अवलोकन या अनुभव के माध्यम से ज्ञान प्राप्त करने का एक तरीका भी है। अनुभववाद कुछ शोधों को अन्य प्रकारों की तुलना में अधिक महत्व देता है।

एक वैज्ञानिक अपने शोध के लिए डेटा इकट्ठा कर रही है।

अनुभवजन्य साक्ष्य (किसी के प्रत्यक्ष अवलोकन या अनुभवों का रिकॉर्ड) का विश्लेषण मात्रात्मक या गुणात्मक रूप से किया जा सकता है। साक्ष्य को परिमाणित करना या गुणात्मक रूप में इसका अर्थ निकालना, एक शोधकर्ता अनुभवजन्य प्रश्नों का उत्तर दे सकता है, जिन्हें स्पष्ट रूप से परिभाषित किया जाना चाहिए और एकत्रित साक्ष्य (आमतौर पर इसे आँकड़ा कहा जाता है) के साथ उत्तर देने योग्य होना चाहिए। क्षेत्र और जांच किए जा रहे प्रश्न के अनुसार अनुसंधान डिजाइन भिन्न-भिन्न होती है। कई शोधकर्ता विश्लेषण के गुणात्मक और मात्रात्मक रूपों को उन सवालों के बेहतर जवाब देने के लिए जोड़ते हैं जिनका अध्ययन प्रयोगशाला सेटिंग्स में नहीं किया जा सकता है, खासकर सामाजिक विज्ञान और शिक्षा में।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें