आशय मन की वह इच्छा है जो व्यक्ति को कोई कार्य करने को प्रेरित करती है। आशय का आपराधिक विधि में बहुत महत्त्व है बिना आशय के कोई बात अपराध नहीं हो सकती है।

उदाहरणसंपादित करें

मूलसंपादित करें

बहती अब भी है करूणा की वह अमृत-रस-धारा।

संबंधित शब्दसंपादित करें

हिंदी मेंसंपादित करें

अन्य भारतीय भाषाओं में निकटतम शब्दसंपादित करें