इंटरस्टेल्लर बाउंड्री एक्सप्लोरर उपग्रह

इंटरस्टेल्लर बाउंड्री एक्सप्लोरर उपग्रह (लघुनाम:आईबेक्स) अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के द्वारा कुछ समय से लगातार सिमटती जा रही सौर वायु के अध्ययन हेतु छोड़ा गया एक अंतरिक्ष यान है।[1] यह यान सौर वायु के बारे में जानकारी प्राप्त करेगा जो विभिन्न ग्रहों की ब्रह्माण्डीय किरणों से सुरक्षा करती है। अगले दो वर्षो तक आईबेक्स द्वारा सौर प्रणाली और अंतरतारकीय आकाश के बारे में गहन जानकारी और उसके चित्र भी मिलते रहेंगे। सौर प्रणाली और अंतरतारकीय क्षेत्र की यह सीमा अति महत्वपूर्ण है क्योंकि वह विभिन्न हानिकारक किरणों से सुरक्षा करती है। यदि इसके अभाव में वे किरणें धरती तक पहुंच जाएं तो उससे काफी नुकसान पहुंच सकता है।

इंटरस्टेल्लर बाउंड्री एक्सप्लोरर
IBEX spacecraft.jpg
लक्ष्य प्रकारऑर्बिटर
का उपग्रहपृथ्वी
कक्षीय प्रविष्टि तिथि2008-10-19, 18:21:00 UTC
लॉन्च तिथि2008-10-19, 17:47:23 UTC
धारक रॉकेटL-1011 TriStar / Pegasus XL
लॉन्च स्थलAir-launch, near Kwajalein Atoll
अभियान काल~2 years
elapsed:

11 वर्ष, 3 महीने और

30 दिन
कॉस्पर आई डी2008-051A
गृह पृष्ठhttp://www.ibex.swri.edu/
कक्षीय तत्व
एक्सेन्ट्रिसिटी0.0
झुकाव10.989999771118164°
कक्षीय अंतराल6,604.0 minutes
भू - दूरस्थ220,886.0 km
भू - समीपक7,000.0 km
कक्षा/दिवस< 1

सन्दर्भसंपादित करें

  1. सोलर विंड के अध्ययन के लिए नासा ने छोड़ा यान। दैट्स हिन्दी। २० अक्टूबर २००८। समाचार एजेंसी डीपीए

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें