मुख्य मेनू खोलें

फखरुद्दीन अल इराक़ी (सन् 1211-1289), हमादान में जन्मे एक फ़ारसी साहित्यकार थे। इराक़ी को लड़कों और पुरुषों की ख़ूबसूरती के लिए लिखी गए कविताओं के लिए जाना जाता है। इराक़ी अपनी किशोरावस्था में हमादान मे आए एक कलंदरिया दल में शामिल हो गए और कई जगहों पर फकीरों की तरह घूमे। इस घटना के बाद से उनके सूफ़ी विचारों की छाप उनकी कविताओँ पर देखी जा सकती है। इराक़ी, सूफ़ी मत के इब्न अरबी के अनुयायी थे जिनकी मृत्यु 1240 इस्वी में हुई। इराक़ी को उनकी मृत्यु के बाद दमिश्क में इब्न अरबी की कब्र के बगल में दफ़नाया गया।