मुख्य मेनू खोलें
बीजेटी से बनाया गया एक स्माल-सिगनल ऐम्प्लिफायर। यह प्रवर्धक कॉमन-एमिटर ऐम्प्लिफायर है। इसके एमिटर में लगा प्रतिरोध निगेटिव फीडबैक के लिए है जो बायस को स्थायित्व प्रदान करता है। वोल्टता लब्धि (वोल्टेज गेन) = Ua / Ue

इलेक्ट्रॉनिक प्रवर्धक (electronic amplifier) उस इलेक्ट्रॉनिक युक्ति को कहते हैं जो किसी संकेत (सिगनल) की शक्ति को बढ़ा दे। समय के साथ परिवर्तित होने वाले वोल्टेज या धारा को 'संकेत' कहते हैं। उदाहरण के लिए, रेडियो के अन्दर लगी एन्टेना और ट्युनिंग परिपथ के द्वारा एक बहुत ही कमजोर सिगनल मिलता है (कुछ माइक्रोवोल्ट का)। इसे प्रवर्धित करके (और डीमॉडुलेशन आदि अन्य कार्य करके) स्पीकर को दिया जाता है जहाँ से आवाज सुनायी पड़ती है।

इलेक्ट्रॉनिक प्रवर्धक दो-पोर्ट नेटवर्क है। वास्तव में, संकेत की शक्ति बढ़ाने के लिए यह डीसी सप्लाई से शक्ति लेकर संकेत की शक्ति को बढ़ाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें