इस्लाम में धर्मत्याग (अरबी : ردة‎‎ रिद्दा या ارتداد इर्तिदाद) का अर्थ किसी मुस्लिम द्वारा सोच-समझकर इस्लाम का त्याग करने से है।[1] इसके अन्तर्गत किसी दूसरे धर्म को अपनाना, भी सम्मिलित है।[2] इस्लाम का त्याग की परिभाषा तथा उसके लिये निर्धारित दण्ड अत्यन्त विवादास्पद हैं तथा इस पर इस्लामी विद्वानों के अलग-अलग विचार हैं।

वर्ष २०१३ में विश्व के विभिन्न देशों में धर्मत्याग से सम्बन्धित नियमों की स्थिति

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "No God, not even Allah". मूल से 26 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 जनवरी 2018.
  2. "कैसा लगता है एक एक्स-मुस्लिम लड़की होना?". मूल से 11 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 जनवरी 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें