ईपॉक्साइड (अंग्रेज़ी- epoxide) तीन-परमाणु रिंग वाला चक्रीय ईथर होते है। इसके अणु का आकार एक समबाहु त्रिभुज जैसा होता है, जिससे इस रिंग में तनाव (strain) आता है। इस कारण ये अन्य ईथरों की तुलना में अत्यधिक प्रतिक्रियाशील होते हैं। विभिन्न अनुप्रयोगों के लिए बड़े पैमाने पर इनका उत्पादन किया जाता है। सामान्य तौर पर, कम आणविक भार के ईपॉक्साइड बेरंग और अध्रुवीय (non-polar) होते हैं, और अक्सर अस्थिर होते हैं।[1]

एक सामान्य ईपॉक्साइड।

संश्लेषणसंपादित करें

औद्योगिक रूप से प्रमुख इपॉक्साइड एथिलीन ऑक्साइड और प्रोपायलीन ऑक्साइड हैं, जो क्रमशः 15 और 3 मिलियन टन प्रतिवर्ष निर्मित होते हैं।[2]

सुरक्षासंपादित करें

एपॉक्सीसाइड एल्काइलेटिंग एजेंट होते हैं, इस कारण इनमें से कई को अत्यधिक विषाक्त होते हैं।[3]

संदर्भसंपादित करें

  1. उलमैन का औद्योगिक रसायनविज्ञान ज्ञानकोश”।। Weinheim: Wiley-VCH। DOI:10.1002/14356007.a09_531.
  2. Siegfried Rebsdat, Dieter Mayer "Ethylene Oxide" in Ullmann's Encyclopedia of Industrial Chemistry, Wiley-VCH, Weinheim, 2005.doi:10.1002/14356007.a10_117 Article Online Posting Date: March 15, 2001.
  3. Niederer, Christian; Behra, Renata; Harder, Angela; Schwarzenbach, René P.; Escher, Beate I. (2004). "Mechanistic approaches for evaluating the toxicity of reactive organochlorines and epoxides in green algae". Environmental Toxicology and Chemistry. 23 (3): 697–704. PMID 15285364. डीओआइ:10.1897/03-83.