उत्खनक या उत्खनित्र (Excavators) निर्माण के काम में आने वाली उन भारी मशीनों को कहते हैं जो भूमि की खुदाई आदि के काम आतीं हैं। इसमें एक घूर्णन करने वाले प्लेटफॉर्म पर 'बूम', डिपर (या स्टिक), बकेट,और कैब लगे होते हैं। घूर्णन करने वाले प्लेटफॉर्म को 'हाउस' कहा जाता है और यह उसके नीचे स्थित 'गाड़ी' पर लगी होती है। गाड़ी में ट्रैक या पहिए लगे होते हैं।

रौपेनबैगर कैटरपिलर 325C नामक उत्खनक

आजकल के हाइड्रॉलिक उनखनक के सभी गतियाँ और कार्य हाइडरॉलिक द्रव के माध्यम से किया जाता है जो हाइड्रॉलिक सिलिण्डर और हाइड्रॉलिक मोटरों के द्वारा कार्य पूरा करता है। इनके कार्य करने का ढंग, केबल से चलने वाले उत्खनित्रों से बिल्कुल भिन्न होता है।