उत्तर आधुनिकतावाद (Postmodernism) २०वीं शताब्दी के दूसरे भाग में दर्शनशास्त्र, कला, वास्तुशास्त्र और आलोचना के क्षेत्रों में फैला एक सांस्कृतिक आंदोलन था जिसने अपने से पहले प्रचलित आधुनिकतावाद को चुनौती दी और सांस्कृतिक वातावरण बदल डाला।[1][2][3] इस नई विचारशैली में विचारधाराओं, एक निर्धारित दिशा वाले सामाजिक विकास और वस्तुनिष्ठावाद के विरुद्ध, और संशयवाद, व्यक्तिपरकता (subjectivity) और व्यंगोक्ति की ओर रुझान प्रचलित हो गया।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "postmodernism: definition of postmodernism in Oxford dictionary (American English) (US)". oxforddictionaries.com. मूल से 4 मई 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 मई 2016.
  2. Ruth Reichl, Cook's November 1989; American Heritage Dictionary's definition of "postmodern" Archived 25 फ़रवरी 2009 at the वेबैक मशीन.
  3. Mura, Andrea (2012). "The Symbolic Function of Transmodernity" (PDF). Language and Psychoanalysis. 1 (1): 68–87. मूल (PDF) से 8 अक्तूबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 मई 2016.