मुख्य मेनू खोलें

अर्थशास्त्र में उत्पादन औद्योगिक प्रतिष्ठानों द्वारा वस्तुओं, सामानों या सेवाओं को निर्मित करने की प्रक्रिया को कहते हैं। उत्पादन का उद्देश्य ऐसी वस्तुएँ और सेवाएँ बनाना है जिनकी मनुष्यों को बेहतर जीवन यापन के लिए आवश्यकता होती है। उत्पादन भूमि, पूँजी और श्रम को संयोजित करके किया जाता है इसलिए ये उत्पादन के कारक कहलाते हैं।

आधारभूत कारकसंपादित करें

उत्पादन के लिए चार मूल आवश्यकताएँ होती हैं।

  • 1- भूमि तथा अन्य प्राकृतिक संसाधन जैसे जल, वन, खनिज।
  • 2- श्रम।
  • 3- भौतिक पूँजी अर्थात उत्पादन के प्रत्एक स्तर पर आई लागत।
  • 4 मानव पूँजी।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें