मध्य प्रदेश के खरगोन जिला में स्थित यह स्थान खरगोन से 14 कि॰मी॰ दूरी पर है। परमार-कालीन शिव-मंदिर तथा जैन मंदिरों के लिये यह स्थान प्रसिद्ध है। एक बहुत प्राचीन लक्ष्मी-नारायण मंदिर भी यहां स्थित है। खजुराहो के अलावा केवल यहीं परमार-कालीन प्राचीन मंदिर हैं।[1][2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. [1] Archived 2017-12-07 at the Wayback Machine जनसम्पर्क विभाग - मध्य प्रदेश -- आधिकारिक जालस्थल पर
  2. [2][मृत कड़ियाँ] पत्रिका। अभिगमन तिथि: ०१ जून २०१५