आधुनिक चिकित्‍सा विज्ञान को एलोपैथी (Allopathy) या एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति (Allopathic medicine) कहते हैं। यह नाम होम्योपैथी के जन्मदाता सैमुएल हैनीमेन ने दिया था जिनका यह नाम देने का आशय यह था कि प्रचलित चिकित्सा-पद्धति (अर्थात एलोपैथी) रोग के लक्षण के बजाय अन्य चीज की दवा करता है। (Allo = अन्य तथा pathy = पद्धति, विधि) एलोपैथी दिखने में बहुत रंग बिरंगी अनेक प्रकार के रंग दोषी दिखती हैं यह खाने में अनेक प्रकार का सद्भाव दिखाती है उन्हें बहुत दवाइयां कड़वी भी होती है यह दवाइयां लेने पर अपना सर एक-दो घंटे में ही दिखाना शुरू कर देती है कुछ दवाइयों को लंबे समय तक लेना पड़ता है एलोपैथिक दवाई अपना असर बहुत जल्दी दिखाती है और दवाईयों से हमें कोई भी एलोपैथिक दवाई डॉक्टर की सलाह के बिना नहीं लेनी चाहिए

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें