एक साल

1957 की देवेन्द्र गोयल की फ़िल्म

एक साल 1957 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसमें अशोक कुमार, मधुबाला, महमूद, जॉनी वॉकर आदि कलाकार हैं। इसमें संगीत रवि का है।

एक साल
एक साल.jpg
एक साल का पोस्टर
निर्देशक देवेन्द्र गोयल
निर्माता देवेन्द्र गोयल
अभिनेता अशोक कुमार,
मधुबाला,
महमूद,
जॉनी वॉकर
संगीतकार रवि
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1957
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

बॉम्बे में रहने वाली ऊषा सिन्हा (मधुबाला) अपने विधुर पिता, सेवानिवृत्त कर्नल के साथ समृद्ध जीवन शैली में रहती है। लखनऊ में अपनी नानी के जन्मदिन के उत्सव के दौरान, उसे कोई रिझाने का प्रयास करता है लेकिन वह उसे नजरअंदाज कर देती है। उसे वह फिर टैक्सी में और फिर बॉम्बे में उसके अपने घर में भी मिलता है। उसे पता चलता है कि उसका नाम सुरेश (अशोक कुमार) है, जिसे उसके पिता ने मैनेजर के रूप में काम पर रखा है। आखिरकार वह और सुरेश दोनों एक दूसरे के प्यार में पड़ जाते हैं।

सुरेश ऊषा की बहुत परवाह करता है। यह सुनिश्चित करने के लिये कि सब कुछ ठीक है, वह उसे मेडिकल जांच के लिए एक डॉक्टर के पास ले जाता है। वहाँ पता चलता है कि उसे ब्रेन ट्यूमर है और उसकी एक साल से ज्यादा जीने की उम्मीद नहीं है। ऊषा को यह नहीं पता कि सुरेश उससे बिल्कुल भी प्यार नहीं करता है, क्योंकि उसका सच्चा प्यार रजनी नाम की एक लखनऊ की रहने वाली महिला है। वह यहाँ सिर्फ उनका विश्वास जीतने के लिए आया है, ताकि वह उन सभी को लूटने में सफल हो सके।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत प्रेम धवन द्वारा लिखित; सारा संगीत रवि द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायनअवधि
1."सब कुछ लुटा के" (महिला संस्करण)लता मंगेशकर3:55
2."सब कुछ लुटा के" (पुरुष संस्करण)तलत महमूद3:30
3."उलझ गये दो नैना देखों" (गीतकार - रवि)हेमन्त कुमार, लता मंगेशकर3:22
4."चले भी आओ"लता मंगेशकर4:07
5."छुप छुप चली पिया की गली"लता मंगेशकर2:46
6."किसके लिये रुका है"मोहम्मद रफ़ी2:24
7."मियाँ मेरी बीवी मेरी"गीता दत्त, बलबीर4:05

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें