एज्हुथाचन पुरस्कार या एज्हुथाचन पुरस्कारम केरल साहित्य अकादमी, केरल सरकार द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान है। यह प्रति वर्ष मलयालम साहित्य के जनक 'एज्हुथाचन' के नाम पर प्रदान किया जाता है, जिसके अंतर्गत रु 1,50,000/- नकद और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार राशि वर्ष 2011 में रु 50,000/- से बढ़ाया गया था।[1] इस पुरस्कार की शुरुआत 1993 में हुई और पहली बार सूरानंद कुंजन पिल्लई को यह प्रदान किया गया था।[2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Ezhuthachan Puraskaram" [एज्हुथाचन पुरस्कारम] (अंग्रेज़ी में). Government of Kerala. मूल से 15 नवंबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 जून 2014.
  2. "Ezhuthachan Puraskaram for MT Vasudevan Nair" [एमटी वासुदेवन नायर को एज्हुथाचन पुरस्कार]. Mathrubhumi (अंग्रेज़ी में). मूल से 17 नवंबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 जून 2014.