एशियाटिक सोसायटी

एशियाटिक सोसायटी (The Asiatic Society) की स्थापना 15 जनवरी 1784 को विलियम जोंस ने कोलकाता स्थित फोर्ट विलियम में की थी। इसका उद्देश्य प्राच्य-अध्ययन का बढ़ावा देना था। इसके अलावा एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल ने भारतीय इतिहास को भी प्रभावित किया है। इसने प्राचीन के इतिहास और संस्कृति के अध्ययन का कार्य किया। विलियम जोन्स ने 1789 में अभिज्ञान शाकुंतलम का अंग्रेजी में अनुवाद किया था जो कि एशियाटिक सोसायटी द्वारा किसी भी यूरोपीय भाषा में अनुदित प्रथम ग्रंथ था।

एशियाटिक सोसायटी
Emblem of the Asiatic Society, Kolkata
Old building
एशियाटिक सोसायटी कोलकाता का पुराना भवन
स्क्रिप्ट त्रुटि: "auto" फंक्शन मौजूद नहीं है।
स्क्रिप्ट त्रुटि: "autocaption" फंक्शन मौजूद नहीं है।
स्थापित1784; 238 वर्ष पहले (1784)
अवस्थिति1 पार्क स्ट्रीट
कोलकाता – 700016
पश्चिम बंगाल, भारत
प्रकारसंग्रहालय, पुस्तकालय
संस्थापकसर विलियम जोन्स
अध्यक्षस्वपन कुमार प्रमाणिक[1]
सार्वजनिक परिवहन पहुंचपार्क स्ट्रीट
जालस्थलasiaticsocietykolkata.org
एशियाटिक सोसायटी का नया भवन

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

  1. "Council | Asiatic Society". www.asiaticsocietykolkata.org. The Asiatic Society. अभिगमन तिथि 15 October 2021.