ऑक्सीजन टंकी या ऑक्सीजन सिलेंडर एक प्रकार का ऑक्सीजन रखने का पात्र होता है, जिसमें या तो गैस को अत्यधिक दाब के साथ रखा जाता है या उसे तरल ऑक्सीजन के रूप में क्रायोजेनिक टैंक में रख दिया जाता है। जिससे इसका इस्तेमाल विभिन्न कार्यों के लिए किया जा सके। इन कार्यों में चिकित्सा के दौरान मरीज को आपातकालीन स्थिति में दिया जाता है। समुद्र में नीचे जाने के समय या पहाड़ पर चढ़ते समय आदि में भी आवश्यकता होती है।

ऑक्सीजन टंकी
ऑक्सीजन टंकी

उपयोगसंपादित करें

ऑक्सीजन के संपर्क में आने वाले सभी उपकरण में दो मुख्य विशेषता का होना अनिवार्य होता है, जिससे आग लगने की संभावना को कम किया जा सके।

  • इसमें उपकरण की पहली विशेषता में ऐसा कोई भी पदार्थ उपकरण में नहीं होना चाहिए जो किसी भी तरह से ऑक्सीजन से अभिक्रिया करे।[1]
  • इसके अलावा उपकरण में उच्च दाब के ऑक्सीजन रखने की क्षमता होनी चाहिए।[2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. NAVSEA (2005). "Cleaning and gas analysis for diving applications handbook". NAVSEA Technical Manual. NAVAL SEA SYSTEMS COMMAND. SS521-AK-HBK-010. मूल से 25 दिसंबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-09-05.
  2. Rosales, KR; Shoffstall, MS; Stoltzfus, JM (2007). "Guide for Oxygen Compatibility Assessments on Oxygen Components and Systems". NASA, Johnson Space Center Technical Report. NASA/TM-2007-213740. मूल से 15 मई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-09-05.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें