ऑक्सीजन सांद्रित्र (oxygen concentrator) वह युक्ति है जिसकी सहायता से किसी गैस में मौजूद ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ा दिया जाता है। प्रायः आक्सीजन सांद्रित्र में वायुमण्डलीय वायु प्रविष्ट करायी जाती है जिसमें ऑक्सीजन की मात्रा लगभग २०% होती है। उदाहरण के लिए यदि इस वायु में से किसी प्रकार से नाइट्रोजन को हटा दिया जाय और इसमें ऑक्सीजन की प्रतिशत मात्रा बढ़ जाय (माना ६०% हो जाय) तो यह एक सांद्रित्र है।

चिकित्सा में उपयोग के योग्य एक ऑक्सीजन सांद्रित्र जिसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाया-ले जाया जा सकता है।

उपयोग : ऑक्सीजन सांद्रित्र का मुख्य उपयोग चिकित्सा के लिए होता है। यदि फेफड़ों की कार्य-क्षमता किसी कारण घट गयी हो तो रोगी को सांद्र आक्सीजन देने से आवश्यक आक्सीजन प्राप्त हो जाती है। उदाहरण के लिए, कोविड-१९ के रोगियों के लिए प्रायः सान्द्र ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है जिसे ऑक्सीजन सांद्रित्र से प्राप्त किया जाता है।

प्रकार : ऑक्सीजन सांद्रित्र मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं- (१) दाब स्विंग अवशोषण (pressure swing adsorption) तथा (२) झिल्ली गैस पृथक्करण (membrane gas separation)

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें