प्रकाश इलेक्ट्रॉनिकी

(ऑप्टोइलेक्ट्रॉनिक से अनुप्रेषित)

प्रकाश इलेक्ट्रॉनिकी (ऑप्टोइलेक्ट्रॉनिक्स) भौतिकी की वह शाखा है, जिसमें उन इलेक्ट्रॉनिक युक्तियों का अध्ययन किया जाता है, जो प्रकाश उत्सर्जित, नियंत्रित या प्राप्त करती हैं। यह बहुत उपयोगी शाखा है।

तरह-तरह के एल ई डी
१९६५ में मानफ्रेड बोर्नर (Manfred Börner) द्वारा प्रस्तावित प्रथम किन्तु अब भी वैध प्रकाश-विद्युत संकेत संप्रेषण योजना। इसमें लेजर डायोड, प्रकाश-तन्तु, फोटोडायोड का उपयोग हुआ है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें