कोशिका विज्ञान, रोगविज्ञान और अनुवांशिकी में ओंकोजीन (oncogene) ऐसी जीन होती है जिसमें कर्करोग (कैंसर) उत्पन्न करने की क्षमता हो।[1] फुलाव (ट्यूमर) की कोशिकाओं में यह ओंकोजीन अक्सर उत्परिवर्तित होते हैं और साथ ही असाधारण स्तरों का जीन व्यवहार दर्शाते हैं।[2] साधारण कोशिकाओं में यदि कोई विकार आ जाए तो वे एपोप्टोसिस नामक प्रक्रिया द्वारा स्वहत्या कर लेते हैं, जिस से जीव को हानि न पहुँचे, लेकिन सक्रीय ओंकोजीन इस एपोप्टोसिस को रोक देते हैं और इन विकृत कोशिकाओं को फैलने का मौका दे देते हैं।[3]

ओंकोजीनों के सक्रीय हो जाने से साधारण कोशिका के कर्करोगी कोशिका बन जाने की प्रक्रिया का एक चित्रण

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Wilbur B, संपा॰ (2009). The World of the Cell (7th संस्करण). San Francisco, C.
  2. Kimball's Biology Pages. Archived 2017-12-31 at the Wayback Machine "Oncogenes" Free full text
  3. The Nobel Prize in Physiology or Medicine 2002. Archived 2018-06-23 at the Wayback Machine Illustrated presentation.