करघा एक प्रकार का कपड़ा बुनने का उपकरण है। किसी भी करघे का मूल उद्देश्य होता है धागों को तवान की स्थित में पकड़े रखना ताकी धागों की बुनाई करके कपड़ा बनाया जा सके। करघे की बनावट और कार्यप्रणाली भिन्न हो सकती है, लेकिन ये मूल रूप से एकसा कार्य करते हैं।

कोन्या, तुर्की में ऊर्ध्वाधर करघे पर काम करती एक महिला

बुनाईसंपादित करें

करघे में बुनाई की जाती है जब बुनने वाले धागों को बुने जाने बाले धागों से मिलाया जाता है।


करघों के प्रकारसंपादित करें

वापसी पट्टा करघासंपादित करें


भारित ताना करघासंपादित करें

hath karga ki sathapana 1964 me ki gai Tana ve bana as parkar ka hath kargha me up karna he

हथकरघासंपादित करें

सबसे आरम्भिक करघे थे लकड़ी के ऊर्ध्वाधर-शाफ्ट करघे, जिसमें शाफ्ट पर हेड्डल लगे होते थे। तने धागे हेड्डल और हेड्डल के बीच के स्थान से एकांतर से गुजरते हैं, ताकि शाफ्ट को उठाने पर आधे धागें ऊपर उठें और शाफ्ट को नीचे करने पर वही धागे नीचे हों-जो धागे हेड्डल के बीच से गुजरते हैं वे एक स्थान पर रहते हैं।

विद्युत करघेसंपादित करें

powerloom या विद्युत करघे विद्युत द्वारा चलते हैं तथा हाथ करघे के अपेक्षा तीव्रता से कार्य संपादित होता है

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें