कर्नाक मंदिर परिसर या कर्नाक प्राचीन मिस्र के मंदिरों,स्तंभों और अन्य दुसरे स्मारकों से मिलकर बना परिसर है। इसकी नीव मध्य साम्राज्य के फैरो सेनुस्रत प्रथम ने रखी थी और तोलेमिक काल तक यहाँ इमारते बनती रही,पर इस परिसर में अधिकतर स्मारक नविन साम्राज्य के काल से है। कर्नाक के आस पास का क्षेत्र ही प्राचीन मिस्र का इप्ट-इसुत है और अठारहवें राजवंश का मुख्य पूजा स्थल जहा देवता अमुन की पूजा होती थी। [1]

अमुनरा मंदिर उपक्षेत्र के स्तंभ
कार्नाक की स्तिथि

यह प्राचीन नगर थेब्स का ही एक भाग है, कर्नाक परिसर के नाम पर पास ही के एक गाँव "एल-कर्नाक" का नाम पड़ा जो की लक्सर के २.५ किलोमीटर उत्तर में है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Egypt: Engineering an empire engineering feats