कष्टहरणी भवानी मंदिर

कष्टहरणी भवानी मंदिर उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के करीमुद्दीनपुर ग्राम में स्थित है। इस धाम के बारे में मान्यता है कि यह पद्मपुराण और वाल्मीकि रामायण में वर्णित देवी का वो मंदिर है जहां भगवान राम ने गुरु विश्वामित्र और अनुज लक्ष्मण के साथ अयोध्या से बक्सर जाते समय पूजा अर्चना की थी।[1]

कष्टहरणी भवानी मंदिर
Saraswati.jpg
कष्टहरणी भवानी मंदिर
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिकरीमुद्दीनपुर,गाजीपुर, उत्तर प्रदेश
वास्तु विवरण
प्रकारशाक्त मंदिर

महात्म्यसंपादित करें

पौराणिक कथाओं के अनुसार यह स्थान पहले दारुकवन के नाम से प्रसिद्ध था। तो वहीं जनश्रुतियों के अनुसार वानप्रस्थ के समय महाराज युधिष्ठिर अपने भाइयों, पत्नी द्रौपदी व कुल पुरोहित धौम्य ऋषि के साथ इस स्थान पर कुछ दिनों तक विश्राम करते हुए देवी की पूजा-अर्चना की थी। त्रेता युग में राम-लक्ष्मण ने अपने गुरु विश्वामित्र के साथ आयोध्या से बक्सर जाते समय देवी के पूजन-अर्चन के पश्चात विश्राम कर बक्सर जाकर ताड़का का बध किया। अघोरेश्वर बाबा कीनाराम को तो मां कष्टहरणी ने स्वयं अपना प्रसाद प्रदान कर पहली सिद्धी से परिपूर्ण किया था।[2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "मां कष्टहरणी भवानी: जहां सबकी भरती है झोली". Jagran.com. अभिगमन तिथि 2017-07-16.
  2. "करीमुद्दीनपुर- मां कष्टहरणी भवानी". amarujala.com. अभिगमन तिथि 2017-07-16.