काई लुन ([tsʰâi lwə̌n]; चीनी: 蔡伦; सीई 48- 121), सौजन्य नाम जिंगझोग (敬 仲), एक चीनी नपुंसक, आविष्कारक, और हान राजवंश के राजनेता थे। उन्हें परंपरागत रूप से कागज़ और कागजा निर्माण प्रक्रिया के आविष्कारक के रूप में जाना जाता है, जो आधुनिक समय के कागज के पहचानने योग्य एक रूप में से था। हालांकि दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व से ही चीन में कागज़ के शुरुआती रूप मौजूद थे,[1] उन्होंने अपनी रचना में आवश्यक नई सामग्रियों को जोड़कर कागजा निर्माण के पहले महत्वपूर्ण सुधार और मानकीकरण किया था।[2]

काई लुन
Cai-lun.jpg
एक 18 वीं शताब्दी चिंग राजवंश प्रिंट प्रिंटिंग के संरक्षक के रूप में काई लुन को दर्शाती हुई।
जन्म 48 और 62 सीई के बीच
गुयांग (वर्तमान लियांग), चीन
मृत्यु 121 (आयु 73)
लुओयांग के हान पैलेस, वर्तमान लुओयांग, हेनान प्रांत, चीन

काई लून ने सम्राट हान के हे (88-106 पर शासन किया) के राज-दरबार में सेवा दी, जिन्होंने उन्हें एक अभिजात वर्ग और बहुत धन से पुरस्कृत किया था।[3] काई महारानी डू के समर्थक थे और उनकी प्रतिद्वंद्वी कंसोर्ट सॉन्ग की मृत्यु में एक भूमिका निभाई थी। 121 ईस्वी में, कंसोर्ट सॉन्ग के पोते सम्राट हान के एन (शासनकाल 106 से 125ई), ने काई लून को कारावास का आदेश दिया था। शाही आदेश का पालन किए जाने से पहले ही काई लून ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। बाद में चीनी पूर्वजों की पूजा में काई को सम्मानित किया गया था। बाद के सोंग राजवंश (960-1279) के फी झू ने लिखा था कि चेंगदू में काई लुन के सम्मान में एक मंदिर बनाया गया था।

जीवनीसंपादित करें

काई लुन (蔡伦) पूर्वी हान राजवंश के दौरान गुयांग (आधुनिक दिन लियांग, हेनान) में पैदा हुआ थे। 75 सीई से अदालत के एक अधिकारी के रूप में कार्य करने के बाद, उन्हें सम्राट हान के हेन शासन के तहत कई पदोन्नति दिए गए। 89 सीई में, उन्हें शांग फांग सी के शीर्षक के साथ पदोन्नत किया गया, जो विनिर्माण उपकरणों और हथियार के प्रभारी कार्यालय थे; वह एक नियमित महल परिचारक (中 常侍) भी बनाये गये।[4] वह महारानी डू के समर्थक के रूप में उनकी प्रतिद्वंद्वी कंसोर्ट सॉन्ग की मौत के साज़िश में शामिल थे।[5] 97 सीई में महारानी डू की मृत्यु के बाद, वह महारानी डेंग सुई के सहयोगी बन गए।

कागज़ की खोजसंपादित करें

104 ईस्वी में, काई ने कागज निर्माण प्रक्रिया के साथ कागज के लिए संरचना का आविष्कार किया- हालांकि हो सकता है उन्हें निचले वर्ग के किसी के आविष्कार का श्रेय दिया गया हो।[6] एक किंवदंती यह भी है कि काई को कागज़ ततैया के घोंसले बनाने की प्रक्रिया से कागज़ बनाने की प्रेरणा मिली थी। आधुनिक समय में कागज निर्माण के उपकरण और मशीनरी अधिक जटिल हो सकते हैं, लेकिन अभी भी पानी में निलंबित रेशे को शीट पर फैलाना, पानी की निकासी, और फिर पतली शीट को सूखाने जैसे तकनीक प्राचीन ही हैं।[7] इस आविष्कार के लिए काई मरणोपरांत विश्वप्रशिध्द हो गये, और यहां तक कि उन्हें अपने समय में भी अपने आविष्कार के लिए मान्यता दी गई थी। बाद में चीन में लिखी गई उनकी आधिकारिक जीवनी के एक हिस्सा में लिखा है:

प्राचीन काल में लेखन और शिलालेख आमतौर पर बांस की पट्टियों पर या रेशम के टुकड़ों पर किये जाते थे। लेकिन रेशम महंगा और बांस भारी होता था, और वे उपयोग करने के लिए सुविधाजनक भी नहीं थे। तशाई लून {काई लुन] ने पेड़ की छाल, भांग के अवशेष, कपड़े के चिथड़े, और मछली पकड़ने के जाल से कागज बनाने का विचार किया। उन्होंने सम्राट युआन-हिंग [+105] के सामने प्रक्रिया प्रस्तुत की और अपनी क्षमता के लिए प्रशंसा प्राप्त की। इस समय से, कागज़ हर जगह उपयोग में होने लगा और सार्वभौमिक रूप से 'मार्क्विस तशाई का कागज़' कहा जाने लगा।[4]

ऊपर सूचीबद्ध कथन अनुसार, कागज निर्माण प्रक्रिया में छाल, सन, रेशम और मछली पकड़ने की जाली जैसी सामग्री का उपयोग शामिल था[8]; उसके सटीक मात्रा का सूत्र खो गया है। सम्राट इस आविष्कार से प्रसन्न थे और काई को एक अभिजात वर्ग और बहुत सा धन प्रदान करते थे।

मृत्युसंपादित करें

121 सीई में, कंसोर्ट सॉन्ग के पोते सम्राट हान के एन, ने महारानी डू की मृत्यु के बाद सत्ता संभाली और काई को जेल भेजने का आदेश दिया। आदेश पारित होने से पहले, काई ने स्नान कर और बढ़िया रेशम के कपड़े पहनने के बाद जहर पीकर आत्महत्या कर ली।[9] बाद में चीनी पूर्वजों की पूजा में काई को सम्मानित किया गया। बाद के सोंग राजवंश (960-1279) के फी झू ने लिखा था कि चेंगदू में काई लुन के सम्मान में एक मंदिर बनाया गया था, जहां कागज निर्माण उद्योग में शामिल कई सौ परिवार दक्षिण से पांच मील (8 किमी) की यात्रा करते थे और उनका सम्मान करते थे।[10]

प्रभावसंपादित करें

इस बेहद महत्वपूर्ण आविष्कार का निर्माता को केवल कुछ हद तक पूर्वी एशिया के बाहर जाना जाता है। काई ने 105 ई में कागज़ निर्माण प्रक्रिया का आविष्कार करने के बाद, यह तीसरी शताब्दी तक चीन में एक लेखन माध्यम के रूप में व्यापक रूप से उपयोग किया गया।[7] इसने चीन को अपनी सभ्यता (व्यापक साहित्य और साक्षरता के माध्यम से) विकसित करने में सक्षम बना किया था, इससे पहले की लेखन सामग्री (मुख्य रूप से बांस और रेशम, जोकि एक अधिक महंगा माध्यम था) के मुकाबले बहुत तेज़ थे।

600 के दशक तक, चीन की कागज़ निर्माण तकनीक कोरिया, वियतनाम और जापान में फैल गई।[11] 751 सीई में, तालास नदी की लड़ाई में तांग सैनिकों को पराजित करने के बाद अरबों ने कुछ चीनी पेपर निर्माताओं पर कब्जा कर लिया। और इस प्रकार यह तकनीक पश्चिम तक फैल गईं। जब पेपर को पहली बार 12वीं शताब्दी में यूरोप में पेश किया गया था, तो धीरे-धीरे उस तरीके से क्रांतिकारी बदलाव हुआ जिसमें लिखित संचार क्षेत्र से क्षेत्र में फैल सकता था। क्रूसेड के दौरान अरबों और यूरोपीय लोगों के बीच संपर्क (प्राचीन यूनानी लिखित शास्त्र को आलेख बध करने की आवश्यक्ता के साथ) हुआ, और कागज के व्यापक उपयोग ने यूरोप में शैक्षिक युग की नींव की सहायता की।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Needham 1985, पृष्ठ 38–40
  2. Needham 1985, पृष्ठ 41
  3. Munro, Alexander (2017). The Paper Trail: An Unexpected History of a Revolutionary Invention. Vintage Books.
  4. Needham 1985, पृष्ठ 40
  5. Peterson, Barbara Bennett, संपा॰ (2000). Notable women of China: Shang dynasty to the early twentieth century. M. E. Sharpe. पृ॰ 105.
  6. Carter, Thomas Francis (1955). "The Invention of Printing in China and Its Spread Westward". Artibus Asiae Publishers: 187. Cite journal requires |journal= (मदद)
  7. Needham 1985, पृष्ठ 1
  8. Knopf, Alfred A.; Hunter, Dard; Hunter, Cornell (1978) [1943]. Papermaking : the history and technique of an ancient craft. New York: Dover Publications. पृ॰ 466. LCCN 77-92477. OCLC 4077165. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0486236196.सीएस1 रखरखाव: तिथि और वर्ष (link)
  9. Will Durant, The Story of Civilization: Our Oriental Heritage, Chapter XXV-The Age of the Artists, part 2 (The Revival of Learning)
  10. Needham 1985, पृष्ठ 47
  11. Deng, Yinke (2005). Ancient Chinese Inventions. China Intercontinental Press. पृ॰ 21.