मुख्य मेनू खोलें

कागजी नींबू (Citrus aurantifolia) नींबू जाति का खट्टा फल है। इसके फल 2.5–5 सेमी व्यास वाले हरे या पीले (पकने पर) होते हैं। इसका पौधा ५ मीटर तक लम्बा होता है जिसमें कांटे भी होते हैं।यह शरीर को शीतलता एवं ताजगी प्रदान करता है। यह शरीर की गर्मी को भी शांत करता है। इसके रस को चाय में डालकर पिएँ या एक नींबू को पाँच बराबर-बराबर भागों में काटकर तीन गिलास पानी में डालकर एक गिलास पानी रह जाने तक धीमी आँच में उबालें। ठंडा होने के बाद छानकर, बुखार की हरारत होते ही पी लें। बुखार नहीं आएगा।

  • यदि शौच ठीक तरह से नहीं हो रहा हो या पेचिश हो, तो प्याज के रस में कागजी नींबू का रस मिलाएँ। इसमें थोड़ा-सा पानी डालकर पिएँ, लाभ होगा।
  • एक छोटा-सा अदरक का टुकड़ा लें। तीन माशा (आधे तोले का आधा) सेंधा नमक लें तथा एक माशा नींबू का रस। इसे मिलाकर खाएँ। अपच व कब्ज गायब हो जाएँगे।
  • स्कर्वी रोग में नींबू श्रेष्ठ दवा का काम करता है। एक भाग नींबू का रस और आठ भाग पानी मिलाकर रोजाना दिन में एक बार लें।