मुख्य मेनू खोलें

जल में पत्तियाँ, तना, फल, फूल या कोई अन्य रसायन डालकर उसे उबालने पर जो पदार्थ बनता है उसे क्वाथ या काढ़ा कहते हैं।

तंत्र के अनुसार इन पाँच वृक्षों —जामुन, सेमर, खिरैटी, मोलसिरी ओर बेर का कषाय 'पंचकषाय' कहलाता है। यह कषाय छाल को पानी में भिगोकर निकाला जाता है और दुर्गा के पूजन में काम आता है।

प्रकारसंपादित करें

कषाय (क्वाथ) पांच प्रकार के होते हैं, जिन्हें सम्मिलित रूप से 'पंचकषाय' कहते हैं—

1. स्वरस

2. कल्क

3. क्वाथ

4. हिम

5. फांट

ये पांचों प्रकार के क्वाथ मधुर, अम्ल, कटु, तिक्त और कषाय रस वाले द्रव्यों से बनाए जाते हैं। स्वरस से कल्क, कल्क से क्वाथ, क्वाथ से हिम और हिम से फांट हल्का होता है। अर्थात् इनकी शक्ति (लाघव) क्रमशः घटते हुए क्रम में होती है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें