मुख्य मेनू खोलें

जिस तरह गुरुद्वारों में लोग नि:स्वार्थ सेवा करते हैं, धार्मिक कार्य करते हैं, उसी तरह की भूमिका कार सेवकों की भी होती है। वास्तव में कार सेवक शब्द संस्कृत से लिया गया है। कार का मतलब होता है कर यानी हाथ, और सेवक का अर्थ होता है, सेवा करने वाला। जो लोग किसी धार्मिक कार्य या संस्था के लिए परोपकार से जुड़ा काम नि:स्वार्थ व नि:शुल्क करते हैं, उन्हें कार सेवक कहा जाता है। चूंकि ज्यादातर परोपकार से जुड़े कार्य धर्म से जोड़कर ही किए जाते हैं, इसलिए कार सेवक शब्द का अर्थ धार्मिक कार्यों को नि:स्वार्थ और नि:शुल्क करने वाले व्यक्ति से लिया जाता है। उस दौरान विश्व हिंदू परिषद द्वारा राम मंदिर बनवाने के लिए जो लोग वॉलेंटियर के रूप में अयोध्या भेजे गए थे, उन्हें कार सेवक कहा गया। सन् 1983 में अमृतसर के स्वर्ण मंदिर को बचाने के लिए भी कई सिख कार सेवकों के रूप में सामने आए थे। उन्होंने बताया कि कार सेवक की स्पेलिंग भी C से नहीं K से शुरू होती है। अंग्रेजी में इस शब्द को वॉलेन्टियर के नाम से संबोधित किया जाता है।