कार्ल ऑरटविन सावर प्रसिद्ध अमेरिकन सांस्कृतिक भूगोलवेत्ता थे।

कार्ल ऑरटविन सावर
जन्म 24 दिसम्बर 1889[1]
मृत्यु 18 जुलाई 1975[1] Edit this on Wikidata
बर्कली, कैलिफोर्निया[1] Edit this on Wikidata
नागरिकता संयुक्त राज्य अमेरिका Edit this on Wikidata
शिक्षा शिकागो विश्वविद्यालय,[2] नॉर्थवेस्टर्न विश्वविद्यालय[2] Edit this on Wikidata
नियोक्ता कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले[2] Edit this on Wikidata

●यह मिसौरी राज्य(usa) के रहने वाले थे।

●1915 में शिकागो विवि में शोध उपाधि ली।

●मिशिगन विवि में प्रथम नियुक्ति प्रोफेसर के पद पर हुई।

●1923 में केलिफोर्निया विवि में प्रोफेसर बने।

●1923-1970 तक बर्क़ेले सम्प्रदाय से जुड़े रहे।

●1925 में क्षेत्रीय विभिन्नता शब्द का प्रयोग किया,जिसकी विस्तृत विवेचना आगे चलकर हार्टशोर्न ने की।।

●मुख्य योगदान - सांस्कृतिक भूगोल में।

●इन्हें सांस्कृतिक भूगोल का पिता कहा जाता है।।

●बूक -1. "द मोरफोलॉजी ऑफ लैंडस्केप"(1925)

2. "एग्रीकल्चर ओरिजन एंड दिसपरज"(1952)


प्रमुख पुस्तकेंसंपादित करें

  • जैविक विश्व का मानवीय उपयोग
  • उत्तरी पश्चिमी मैक्सिको की आदिम जनसंख्या
  • कृषि के उदगम प्रदेश और प्रकिर्डन
  • सांस्कृतिक भूगोल
  • दृष्यभूमी का आकृति विज्ञान
  • ओजार्क उच्च भूमि

सावर संभव वाद का समर्थक था, परन्तु आधुनिक युग के निश्चय वाद को मानते हुए उसने प्रकृति और मानव के बीच समायोजन को ही प्रमुख माना था।

  1. https://www.jstor.org/stable/213317.
  2. https://www.gf.org/fellows/all-fellows/carl-o-sauer/.