Well, Historical Village , Bhaini Sahib, Ludhyana , Punjab , India
चेन्नई में एक कुँवा

कुआँ या कुँवा या कूप जमीन को खोदकर बनाई गई एक संरचना है जिसे जमीन के अन्दर स्थित जल को प्राप्त करने के लिये बनाया जाता है। इसे खोदकर, ड्रिल करके (या बोर करके) बनाया जाता है। बड़े आकार के कुओं से बाल्टी या अन्य किसी बर्तन द्वारा हाथ से पानी निकाला जाता है। किन्तु इनमें जलपम्प भी लगाये जा सकते हैं जिन्हें हाथ से या बिजली से चलाया जा सकता है। कुआं दो प्रकार के होते हैं सुरक्षित कुआं और असुरक्षित कुआं सुरक्षित कुआं ढ़ंका हुआ जिससे अन्य दूषित पानी प्रवेश न कर सके जबकि असुरक्षित कुआं में बिना मेडबंदी व बिना ढ़ंका हुआ होता है निषाद

कुएँ का अन्य प्रयोगसंपादित करें

विश्व के कुछ स्थानों पर पेट्रोल और गैस-कुएँ भी मौजूद हैं। यहाँ ज़मीन की खुदाई का काम पूरा करके कई लाख क्यूबिक मीटर गैस का प्रतिदिन उत्पादन किया जाता है।[1]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

 
चन्द बावड़ी - क्रमश: घटता हुआ चौकोर कुँवा