मुख्य मेनू खोलें

इन्हें शेख़ क़ुतुबन के नाम से जाना जाता है। इनका जन्म 1515 ईस्वी (1515 AD) में हुआ माना जाता है। कुतुबन शेख बुरहान के शिष्य थे और शेरशाह के पिता हुसैन शाह के समकालीन थे।

ये सूफी प्रेम काव्य परम्परा के कवि थे। इनका प्रसिद्ध ग्रंथ मृगावती है। इस ग्रंथ में लौकिक प्रेम की आड़ में अलौकिक प्रेम की बडी सुन्दर अभिव्यंजना हुई है। कवि की भाषा अवधी तथा छंद दोहा एवं चौपाई है।

संबंधित कड़ियाँसंपादित करें