कुमारटुलि (या, कुमारटोली) कलकाता के उत्तर भाग में स्थित एक अञ्चल है। यह अञ्चल ‘पटुआपाड़ा' या मृत्शिल्पियों की बस्ती के रूप में प्रसिद्ध है। कलकाता के इस अञ्चल से देवीदेवताओं की प्रतिमा मात्र कोलकाता शहर में ही घर-घर पूजा के लिए नहीं जातीं बल्कि देश के बाहर भी भेजी जाती हैं। कुमारटुलि पश्चिम बंगाल का एक विख्यात हस्तशिल्प (मृत्शिल्प) केन्द्र भी है।

कुमारटुलि के शिल्पियों द्वारा निर्मित बागबाजार सार्वजनिक दुर्गाप्रतिमा का सौन्दर्य

सन्दर्भसंपादित करें