कुम्भकर्ण

रामायण में उल्लेखित रावण के रामायण में उल्लेखित रावण के छोटे भाई

कुम्भकर्ण रामायण के एक प्रमुख पात्र का नाम है। वह ऋषि व्रिश्रवा और दैत्यिनी कैकसी का पुत्र तथा लंका के राजा रावण का छोटा भाई था। कुम्भ अर्थात घड़ा और कर्ण अर्थात कान, बचपन से ही बड़े कान होने के कारण इसका नाम कुम्भकर्ण रखा गया था। यह विभीषण और शूर्पनखा का बड़ा भाई था। बचपन से ही इसके अंदर बहुत बल था, इतना कि एक बार में यह जितना भोजन करता था उतना कई नगरों के प्राणी मिलकर भी नहीं कर सकते थे। जब इनके पिता ने तीनों भाइयों को तपस्या करने के लिए कहा और भगवान ब्रह्मा जी ने इन्हें दर्शन दिए तो देवताओं ने माता सरस्वती से प्रार्थना की जब कुम्भकर्ण वरदान माँगे तो वे उसकी जिव्हा पर बैठ जाएँ। परिणाम स्वरूप जब कुम्भकर्ण इंद्रासन माँगने लगा तो उसके मुख से इंद्रासन की जगह निंद्रासन (सोते रहने का वरदान )निकला जिसे ब्रह्मा जी ने पूरा कर दिया परंतु बाद में जब कुम्भकर्ण को इसका पश्चाताप हुआ तो ब्रह्मा जी ने इसकी अवधि घटा कर एक दिन कर दिया जिसके कारण यह छः महीने तक सोता रहता फिर एक दिन के लिए उठता और फिर छः महीने के लिए सो जाता,परंतु ब्रह्मा जी ने इसे सचेत किया कि यदि कोई इसे बलपूर्वक उठाएगा तो वही दिन कुम्भकर्ण का अंतिम दिन होगा।

युद्ध मे कुम्भकर्ण

कुम्भकर्ण दिखने में बहुत ही ज्यादा बलशाली और भीमकाय था और आम लोगो से कई गुना ज्यादा भोजन करता था जिसका वर्णन रामचरितमानस में भी किया गया है| पुराणों के अनुसार कुम्भकर्ण अपने पूर्व जन्म में असुरराज हिरण्यकशिपु ( रावण का पूर्व जन्म ) का छोटा भाई हिरण्याक्ष था उस जन्म में उसका वध भगवान विष्णु के वाराह अवतार द्वारा हुआ था और अपने अगले जन्म में कुम्भकर्ण दन्तवक्र के रूप में पैदा हुआ था और भगवान विष्णु के कृष्णावतार द्वारा हुआ था तथा रावण अपने अगले जन्म में शिशुपाल ( श्रीकृष्ण की बुआ सुतसुभा का पुत्र जो आसुरी प्रवर्ती का था )

दोहा :

* राम रूप गुन सुमिरत मगन भयउ छन एक।

रावन मागेउ कोटि घट मद अरु महिष अनेक॥63॥

भावार्थ:-श्री रामचंद्रजी के रूप और गुणों को स्मरण करके वह एक क्षण के लिए प्रेम में मग्न हो गया। फिर रावण से करोड़ों घड़े मदिरा और अनेकों भैंसे मँगवाए॥6.63॥


चौपाई :

* महिषखाइ करि मदिरा पाना। गर्जा बज्राघात समाना॥

कुंभकरन दुर्मद रन रंगा। चला दुर्ग तजि सेन न संगा॥1॥

भावार्थ:-भैंसे खाकर और मदिरा पीकर वह वज्रघात (बिजली गिरने) के समान गरजा। मद से चूर रण के उत्साह से पूर्ण कुंभकर्ण किला छोड़कर चला। सेना भी साथ नहीं ली॥6.64॥

[1]

  1. शर्मा, पंडित रामप्रकाश (2016-04-25). "रामचरित मानस चोपाई - कुम्भकर्ण kumbhkaran in ramayan". Panditbooking (अंग्रेज़ी में). मूल से 10 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-04-21.