केप्लर के ग्रहीय गति के नियम

Principles for planetary motion
केप्लेर के तीनो नियमों का दो ग्रहीय कक्षाओं के माध्यम से प्रदर्शन
(1) कक्षाएँ दीर्घवृत्ताकार हैं एवं उनकी नाभियाँ पहले ग्रह के लिये (focal points) ƒ1 and ƒ2 पर हैं तथा दूसरे ग्रह के लिये ƒ1 और ƒ2हैं। सूर्य नाभिक बिन्दु ƒ1 पर स्थित है।
(2) ग्रह (१) के लिये दोनो छायांकित (shaded) सेक्टर A1और A2 का क्षेत्रफल समान है तथा ग्रह (१) के लिये सेगमेन्ट A1 को पार करने में लगा समय उतना ही है जितना सेगमेन्ट A2 को पार करने में लगता है।
(3) ग्रह (१) एवं ग्रह (२) को अपनी-अपनी कक्षा की परिक्रमा करने में लगे कुल समय a13/2 : a23/2 के अनुपात में हैं।

खगोल विज्ञान में केप्लर के ग्रहीय गति के तीन नियम इस प्रकार हैं - सभी ग्रहों की कक्षा की कक्षा दीर्घवृत्ताकार होती है तथा सूर्य इस कक्षा के नाभिक (focus) पर होता है।

  1. ग्रह को सूर्य से जोड़ने वाली रेखा समान समयान्तराल में समान क्षेत्रफल तय करती है।
  2. ग्रह द्वारा सूर्य की परिक्रमा के कक्षीय अवधि का वर्ग, अर्ध-दीर्घ-अक्ष (semi-major axis) के घन के समानुपाती होता है।
  3. किसी ग्रह की कक्षीय अवधि का वर्ग उसकी कक्षा के अर्ध-प्रमुख अक्ष के घन के सीधे आनुपातिक है।

इन तीन नियमों की खोज जर्मनी के गणितज्ञ एवं खगोलविद योहानेस केप्लर (Johannes Kepler 1571–1632) ने की थी। और सौर मंडल के ग्रहों की गति के लिये वह इनका उपयोग करते थे। वास्तव में ये नियम किन्ही भी दो आकाशीय पिण्डों की गति का वर्णन करते हैं जो एक-दूसरे का चक्कर काटते हैं।

केप्लर द्वारा उपयोग में लाए गए आंकडेसंपादित करें

केप्लर ने अपने तृतीय नियम के लिए निम्नलिखित सारणी में दर्शाए गए आंकड़ों का उपयोग किया था।

केप्लर द्वारा प्रयुक्त आंकड़े (1618)
ग्रह सूर्य से
माध्य दूरी
आवर्तकाल
(दिन)
  


(10-6 


AU3/day2)

बुध 0.389 87.77 7.64
शुक्र 0.724 224.70 7.52
पृथ्वी 1 365.25 7.50
मंगल 1.524 686.95 7.50
बृहस्पति 5.2 4332.62 7.49
शनि 9.510 10759.2 7.43

उपरोक्त पैटर्न को देखते हुए केप्लर ने लिखा:[1]

"पहले मुझे लगा कि मैं स्वप्न देख रहा हूँ… लेकिन यह पूर्णतः असंदिग्ध और सुनिश्चित है कि दो ग्रहों के आवर्त काल के बीच जो अनुपात है वही अनुपात उनकी सूर्य से माध्य दूरियों के (3/2)वें घात के अनुपात के बराबर है।

केप्लर द्वारा १६१९ में रचित Harmonies of the World से अनूदित

नीचे की सारणि में उपरोक्त आंकड़ों के आधुनिक अनुमानित मान दिए गए हैं:

आधुनिक आंकड़े (Wolfram Alpha Knowledgebase 2018)
ग्रह अर्ध-दीर्घ अक्ष आवर्तकाल (दिन)   


(10-6 


AU3/day2)

बुध 0.38710 87.9693 7.496
शुक्र 0.72333 224.7008 7.496
पृथ्वी 1 365.2564 7.496
मंगल 1.52366 686.9796 7.495
बृहस्पति 5.20336 4332.8201 7.504
शनि 9.53707 10775.599 7.498
युरेनस 19.1913 30687.153 7.506
नेप्चून 30.0690 60190.03 7.504

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Caspar, Max (1993). Kepler. New York: Dover.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें