केशवराव सोनवणे

भारतीय राजनीतिज्ञ


केशवरावजी सोनवणे (१९२५-२००६) महाराष्ट्र राज्य के सहकार मंत्री थे। वे दो बार लातुर से और दो बार औसा विधानसभा से ऐसे कुल चार बार महाराष्ट्र की विधानसभा के विधायक रह चुके थे।[3] स्व वैकुंठ मेहताजी ने उनके सहकार क्षेत्र के योगदान के लिये उनका "सहकार महर्षि " की पदवी देकर उनका गौरव किया था। उन्होने महाराष्ट्र की कृषि उत्पादन बाजार समिति के कानून का गठन १९६३ मे किया था। एस कानून का मसौदा उन्होने खुद ही बनाया था। [4]

केशवराव सोनवणे
केशवरावजी सोनवणे (सोनवणे साहेब)
सहकार महर्षी केशवरावजी सोनवणे.[1]

पद बहाल
१९६२ – १९६७

पद बहाल
१९५७ – १९६२
पद बहाल
१९६२ – १९६७
उत्तरा धिकारी व्ही. आर. कालदाते

पद बहाल
१९७२ – १९७७
पद बहाल
१९७८ – १९८०
पूर्वा धिकारी व्ही. एस. मुसंडे
उत्तरा धिकारी उटगे शिवशंकराप्पा विश्वनाथअप्पा

जन्म ०४ फ़रवरी १९२५
लातूर, बॉम्बे राज्य, ब्रिटिश राज
मृत्यु 8 नवम्बर २००६(२००६-11-08) (उम्र 81)[2]
लातूर, महाराष्ट्र, भारत
जन्म का नाम केशवराव सीताराम सोनवणे
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवन संगी कडुबाई सोनवणे
बच्चे 3 लडके ४ लडकीयां
व्यवसाय राजनेता
अधिवक्ता
धर्म हिन्दू

प्रारंभिक जीवन

संपादित करें

केशवराव सोनवणे का जन्म किसान परिवार में औसा तालुका के मोगरगा में हुआ था।[4] केशवराव सोनवणे के पिता सीताराम सोनवणे एक किसान थे जो आर्य समाज के अनुयायी थे। आर्य समाज के अनुसार सभी बच्चों को अच्छी तरह से शिक्षित होना चाहिए। केशवराव के पिता सीताराम सोनवणे आर्य समाज की शिक्षाओं से प्रेरित होकर अपने परिवार की शिक्षा के लिए अपने परिवार को लातूर को स्थानांतरित करने का फैसला किया। केशवराव को सरकारी हाई स्कूल लातूर से उनकी प्राथमिक शिक्षा मिली। अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद वह बैचलर ऑफ लॉज (एलएलबी) करने के लिए हैदराबाद में चले गए। केशवराव सोनवणे को हैदराबाद के उस्मानिया विश्वविद्यालय से बैचलर ऑफ लॉज (एलएलबी) मिला[4]। अपने बैचलर ऑफ लॉज प्राप्त करने के बाद, उन्होंने लातूर जिला अदालत में अपना अभ्यास शुरू किया। वह लातूर में आपराधिक बचाव वकील थे।

राजनीतिक करियर

संपादित करें

यशवंतराव चव्हाण ने लातूर निर्वाचन क्षेत्र से बॉम्बे विधानसभा सदस्य के लिए कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार केशवराव को चुना। १९५७ में, केशवराव लातूर निर्वाचन क्षेत्र से बॉम्बे विधानसभा चुनाव के लिए खड़े होने का फैसला किया और विठ्ठलराव केळगावकर को हराकर बॉम्बे विधानसभा चुनाव जीता। इसके बाद, उन्होंने रामचंद्र गोविंद को हराकर लातूर निर्वाचन क्षेत्र से १९६२ में विधानसभा चुनाव जीता और महाराष्ट्र राज्य के सहकार मंत्री बने।[4] [2]

लातूर शहर में उनकी अनुपस्थिति के दौरान, जब वह सहकार मंत्री के रूप में सेवा कर रहे थे, लातूर में विपक्ष मजबूत हो गया। इस वजह से उन्होंने १९६७ में समाजवादी नेता बापू काळदाते के खिलाफ लातूर निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा चुनाव हार गए थे। [2]

इस विशाल झटके के बावजूद, १९७२ में उन्होंने औसा निर्वाचन क्षेत्र से महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए खड़े होने का फैसला किया, जहां उनके परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों के नेटवर्क के रूप में उनका बहुत मजबूत समर्थन था।[3] औसा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने का फैसला करने के बाद साथ ही महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के एक मुख्य सदस्य के रूप में उन्होंने शिवराज पाटिल को लातूर निर्वाचन क्षेत्र की सीट के उत्तराधिकारी के रूप में नामित किया। इस बार उन्होंने माधव पाटिल के खिलाफ चुनाव जीता और औसा निर्वाचन क्षेत्र से महाराष्ट्र विधान सभा के सदस्य बने। १९७७ के विधानसभा चुनावों में केशवराव सोनवणे से तीन हजार वोटों के मार्जिनसे जनता दल के काशीनाथ जाधव हार गए थे। [5]

विधानसभा चुनाव

संपादित करें
साल विधानसभा क्षेत्र पक्ष परिणाम मतसंख्या विपक्षी प्रत्याशी विपक्षी पार्टी विपक्ष मतसंख्या
१९५७ लातूर भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस जीत १४७८५ विठ्ठलराव केळगावकर IND १२१७८ [6]
१९६२ लातूर भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस जीत २३०४९ रामचंद्र गोविंद IND १४०३६ [7]
१९६७ लातूर भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस हार २४४७० बापू काळदाते SSP २८९४८ [8]
१९७२ औसा भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस जीत ४४१५३ दिनकरराव फतेपूरकर CPI १४२१६ [9]
१९७८ औसा भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस जीत १९३२१ पाटील माधवराव संतराम IND १४०३६ [10]
  1. "सहकारमंत्री (कै.) केशवराव सोनवणे यांची पुतणी सरिता पाटील यांची बेळगाव महानगरपालिकेच्या नगरसेवकपदी बिनविरोध निवड झाली".[मृत कड़ियाँ]
  2. "Ex-minister Keshavrao Sonawane dead". Mumbai Mirror. मूल से 28 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 April 2015.
  3. "Ausa (Maharashtra) Election Results 2014, Current and Previous MLA". elections.in. मूल से 7 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 April 2015.
  4. "Loksatta(Marathi Newspaper)". loksatta.com. मूल से 21 दिसंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 April 2015.
  5. "जनता दल के काशीनाथ जाधव केशवराव सोनवणे से तीन हजार वोटों के मार्जिनसे हार गए". dnaindia.com. मूल से 14 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 August 2018.
  6. "भारत निर्वाचन आयोग(१९५७)" (PDF). मूल से 19 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 28 जनवरी 2017.
  7. "भारत निर्वाचन आयोग(१९६२)". मूल से 28 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2017.
  8. "भारत निर्वाचन आयोग(१९६७)". मूल से 29 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2017.
  9. "भारत निर्वाचन आयोग(१९७२)". मूल से 21 दिसंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2017.
  10. "भारत निर्वाचन आयोग(१९७८)". मूल से 21 दिसंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2017.